केजरीवाल को तीसरी बार दिल्ली का ताज तय, आम आदमी पार्टी को 58 सीटों पर बढ़त. भाजपा 12 सीटों पर बढ़त बचा पाई .. शेष पर फिर गई झाडू

रायपुर,11 फ़रवरी 2020। ईव्हीएम से निकल रहे रुझानों ने अब बहुत हद तक स्थिति साफ़ कर दी है। हालाँकि शुरु से ही आम आदमी पार्टी ने बढ़त बनाए रखी है, और शुरुआती दौर में ही आप ने बहुमत का जादुई आंकडे छू लिया था। नज़रें इस पर टिकी हुई हैं कि, पूरी ताक़त झोंकने के बाद भाजपा किस आंकडे तक खुद को पहूंचा पाती है, और विकास के दावों के साथ मैदान में उतरने वाले केजरीवाल को बीते चुनाव के मुक़ाबिल कितना नुक़सान उठाना पड़ता है। और अब रुझान बहुत स्पष्ट और प्रत्याशियों के बीच मज़बूत अंतर के साथ मौजूद हैं।

पंक्तियों के लिखे जाते समय जो रुझान के आंकडे आ रहे हैं वे आम आदमी पार्टी को 58 पर जबकि भाजपा को 12 पर बढ़त बता रहे हैं। जबकि कुछ देर पहले तक भाजपा क़रीब बीस सीटों पर आगे थी। लेकिन इस वक्त भाजपा का मीटर 12 पर अटक गया है।

यह रुझान बताते हैं कि आम आदमी पार्टी को 9 सीटों का नुक़सान हो रहा है जबकि भाजपा को 9 सीटों का फ़ायदा है। जिस मॉडल स्कुलों को लेकर आम आदमी पार्टी ने देश के सामने आईडियल प्वांईट पेश किया उस के रचयिता शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया पीछे चल रहे हैं, इस कतार में अमानुल्ला का भी नाम है। कांग्रेस से जिस नाम पर जीत का कुछ बेहतर भरोसा था वे अलका लांबा भी पीछे चल रही हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.