पत्रकार का मर्डर : परिजनों ने शव लेने से किया इंकार, कहा- जब तक हत्यारे पकड़े नहीं जाते, तब तक नहीं लेंगे बॉडी…..छेड़खानी के विरोध पर, पत्रकार को बीच सड़क सर पे मार दी थी गोली

गाजियाबाद 22 जुलाई 2020। पत्रकार की गोली मारकर हुई हत्या ने एक बार फिर यूपी पुलिस की पोल खोल दी है। सोमवार को विक्रम जोशी नाम के पत्रकार के सर में कुछ बदमाशों ने गोली मार दी थी, पत्रकार की इलाज के दौरान मौत हो गयी। इधर परिजनों ने पत्रकार का शव लेने से इंकार कर लियाहै। परिजनों का कहना है कि जब तक हत्यारे पकड़े नहीं जाते, तब तक वो शव नहीं लेंगे।

इससे पहले बीच सड़क पर बेटियों के सामने पत्रकार के सर में गोली मार दी गयी थी, जिसके बाद उन्हें यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया गया, जहां पत्रकार विक्रम जोशी ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। विक्रम जोशी पर हमला भांजी से छेड़छाड़ की शिकायत करने पर बदमाशों ने किया था.

इधर इस मामले में विक्रम जोशी के भांजे का कहना है कि कमालउद्दीन के बेटे सहित कुछ लड़के उसकी बहन को छेड़ा करते थे। जिसका विरोध उनके पत्रकार मामा ने किया था, इसकी वजह से जब सोमवार की रात मामा घर आ रहे थे, जब कमालउद्दीन के बेटे ने उन पर हमला किया और उन्हें गोली मार दी. मुख्य आरोपी के पकड़े जाने तक हम अपने मामा के पार्थिव शरीर को नहीं लेंगे।

विक्रम जोशी के भांजे ने कहा कि मेरा घर माता कॉलोनी में है. मेरी बहन पर ये लोग कमेंट करते थे. मेरे मामा ने विरोध किया. इसके बाद कमाल-उल-दीन के लड़के ने मेरे मामा के सिर में गोली मारी है. मामा मेरी बहन के बर्थडे को सेलिब्रेट करने आ रहे थे और बीच में ही बदमाशों ने घेरकर गोली मार दी.

विक्रम जोशी के भांजे ने कहा कि पहले मेरे मामा को 15-20 बदमाशों ने बहुत मारा, फिर गोली मार दी. हम जबतक पहुंचते, तबतक काफी देर हो चुकी थी. हम तो अब इंसाफ चाहते हैं. हमें कमाल-उ-दीन का लड़का चाहिए. पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए भांजे ने कहा कि हमने शिकायत की थी, लेकिन किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की.

Spread the love