लॉकडाउन में पंडित नहीं मिला तो महिला SI ने कराई शादी, गूगल की मदद से पढ़े मंत्र…एसआई के पैर छूकर जोड़े ने लिया आशीर्वाद

नरसिंहपुर 2 मई 2020 कोरोना वायरस के कारण देश में लगे लॉकडाउन में पुलिस के कई अंदाज दिख रहे हैं। कहीं पुलिस किसी के जन्मदिन पर केक लेकर घर पहुंच जा रही है, तो कहीं घर-घर जरूरत के सामान पहुंचा रही है।

पंडित नहीं मिला तो महिला SI ने कराई शादी, गूगल की मदद से पढ़े मंत्र

इस बीच मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले में लॉकडाउन के दौरान एक ऐसी शादी हुई, जिसमें वर-वधु पक्ष को फेरे कराने के लिए कोई पंडित नहीं मिला तो गश्त पर निकलीं महिला एसआई ने शादी के मंत्र पढ़ दिए। महिला एसआई ने दीया जलवाकर परिणय के सात फेरे लगवाए साथ ही वर-वधु को सात वचनों के साथ कानून की जानकारी भी दी।

पंडित नहीं मिला तो महिला SI ने कराई शादी, गूगल की मदद से पढ़े मंत्र

नरसिंहपुर जिले की गोटेगांव तहसील के ग्राम झोतेश्वर में एसआई ने पंडित बन शादी कराई। जिले के श्रीनगर के लक्ष्मण पुत्र टीकाराम चौधरी का अक्षय तृतीया पर इतवारा बाजार निवासी ऋतु पुत्री राजाराम चौधरी से विवाह तय था।

पंडित नहीं मिला तो महिला SI ने कराई शादी, गूगल की मदद से पढ़े मंत्र

दरअसल, नरसिंहपुर जिले में श्रीनगर के रहने वाले लक्ष्मण चौधरी का विवाह नरसिंहपुर के इतवारा बाजार की रहने वाली ऋतु चौधरी से तय हुआ था. दोनों परिवारों ने बाकायदा शादी करने की जिला प्रशासन से अनुमति भी ले रखी थी.

बताया जा रहा है कि यह विवाह झोटेश्वर के पार्वती मंदिर में सीमित मेहमानों की उपस्थिति में सम्पन्न होना था. पंडित नहीं होने के कारण परिवार वालों ने वहां की ब्राह्मण समाज से ताल्लुक रखने वाली झोटेश्वर की थाना प्रभारी अंजली अग्निहोत्री से विवाह संपन्न कराने का आग्रह किया और थाना प्रभारी ने वर-वधु के विवाह की रस्में पूरी भी करवाईं.

थाना प्रभारी अंजली अग्निहोत्री का कहना है कि लॉकडाउन चल रहा है सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना है. मैं गश्त पर निकली थी तभी मंदिर में वर और वधु सहित 8 लोग मौजूद थे. उनकी परमिशन चेक की तो हमें पता चला कि उनके पास शादी करने की परमिशन थी. वर और वधु पक्ष के लोगों ने कहा कि मैडम, पंडित की व्यवस्था नहीं हो पा रही है. आप भी पंडित हैं आप शादी करा दें तो भी चलेगा.

अंजली ने बताया कि मंदिर बंद था इसलिए परिक्रमा में फेरे के लिए हवन वेदी के स्थान पर दीया जलाकर रखा गया। मंत्रों के साथ दीये और मंदिर के फेरे कराए गए। परिणय के सात वचनों के साथ वर-वधु को कानूनी प्रावधान भी बताए गए। इस दौरान लॉकडाउन के नियमों का भी पूरी तरह पालन किया गया।

 

Spread the love