अगर कांग्रेस का तख्तापलट हुआ तो शिवराज बनेंगे मुख्यमंत्री…. कल शाम चुना जायेगा विधायक दल का नेता…. सिंधिया सांसद के साथ मंत्री पद भी पायेंगे…. लेकिन इस समीकरण में ये है बड़ी मुश्किलें

भोपाल 9 मार्च 2020। कांग्रेस में सियासी उठापटक के बीच एक नया समीकरण सामने आया है। अगर कांग्रेस में तख्तापलट होता है तो भाजपा की तरफ से शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री होंगे। कल भाजपा ने अपने विधायक दल की बैठक बुलायी है। बैठक में शिवराज सिंह चौहान को विधायक दल का नेता चुन लिया जायेगा। इसके एवज में ज्योतिरादित्य सिंधिया राज्यसभा भाजपा की तरफ से भेजे जायेंगे, वहीं केंद्रीय कैबिनेट में भी उन्हें जगह दी जायेगी। कांग्रेस के सिंधिया समर्थक 6 मंत्री सहित 17 विधायकों से लापता होने का गणित यही सामने आ रहा है।

ये है मुश्किल

हालांकि इसके पीछे एक बड़ी मुश्किल वाली बात भी है। अगर भाजपा के साथ सिंधिया समर्थक 17 विधायक गये तो सभी की विधायकी चली जायेगी, ऐसे में क्या विधायक अपनी कुर्सी और विधायकी दांव पर लगाने को तैयार होंगे, ये सबसे बड़ा सवाल है। ऐसे में सिंधिया का रोल क्या क्या होगा, इस पर भी सभी की नजर होगी।

बीजेपी के चार नेताओं से मुलाकात की खबर

आज शाम सिंधिया की भाजपा के चार बड़े नेताओं से मुलाकात की खबर है। हालांकि कब कहां और किनसे ये मुलाकात हुई है, इसे लेकर अभी तक कोई स्पष्ट जानकारी नहीं आयी है। कमलनाथ सरकार के जिन मंत्रियों को बेंगलुरू ले जाया गया है उनमें प्रद्युम्न सिंह तोमर, तुलसी सिलावट, गोविंद राजपूत, प्रभुराम चौधरी, इमारती देवी और महेंद्र सिसोदिया शामिल हैं. ये सभी मंत्री सिंधिया गुट के माने जाते हैं. जो 17 विधायक 3 चार्टर प्लेन की मदद से दिल्ली से बेंगलुरु पहुंचाए गए हैं उनमें राजवर्धन सिंह, ओपीएस भदौरिया, गिरिराज दंडोतिया, बिजेंद्र यादव, जसपाल जज्जी, रणवीर जाटव, कमलेश जाटव, जसवंत जाटव, रक्षा सिरोनिया, मुन्ना लाल गोयल, सुरेश धाकड़, रघुराज कसाना, हरदीप सिंह डंग शामिल हैं.

Spread the love