comscore

IAS तारण सिन्हा ने राजनांदगांव कलेक्टर का पदभार संभाला….अफसरों की बैठक में कहा दो टूक- लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी, सभी अफसर-कर्मचारियों को मुख्यालय में ही रहने का निर्देश

राजनांदगांव 8 जून 2021। कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने कहा कि सभी अधिकारी पारदर्शिता एवं संवेदनशीलता के साथ कार्य करें तथा योजनाओं के यिान्वयन पर विशेष ध्यान दें। कोविड-19 के कारण रूके हुए कार्यों को शीघ्र ही पूर्ण करना है। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों से संबंधित विभाग गुणवत्तापूर्ण कार्य करें। कार्य की गुणवत्ता से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा। किसी भी तरह की कमी पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी अधिकारी एवं कर्मचारी मुख्यालय में रहेंगे। सोमवार को सभी अधिकारी अनिवार्य रूप से कार्यालय में रहेंगे। सोमवार के बाद जिला स्तरीय अधिकारी फील्ड में नियमित निरीक्षण करेंगे। उक्त बातें कलेक्टर श्री सिन्हा ने साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में कही।

कलेक्टर श्री सिन्हा ने खाद-बीज की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि फसल बीमा में किसानों को किसी तरह की दिक्कत नहीं आनी चाहिए। कोविड-19 के तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए कोरोना से सुरक्षित रहने के लिए टीकाकरण एवं कोरोना एप्रोप्रियट बिहेवियर का पालन जरूरी है। टीकाकरण से संबंधित भ्रांतियों को दूर करते हुए सभी विकासखंडों में अभियान चलाए। उन्होंने कहा कि महतारी दुलार योजना शासन की महत्वपूर्ण योजना है जिसके तहत प्रदेश में कोविड-19 से हुई व्यक्तियों की मृत्यु से बेसहारा हुए बच्चों को निःशुल्क स्कूली शिक्षा के साथ ही छात्रवृŸिा भी राज्य शासन द्वारा दी जाएगी। उन्होंने ऐसे बच्चों के चिन्हांकन के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। प्रभावित बच्चों को शीघ्र ही छात्रवृŸिा की राशि मिलना आरंभ हो जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अनुकंपा नियुक्ति के लिए शासन द्वारा 10 प्रतिशत पदों के सीमा बंधन को शिथिल किया गया है।

कोविड-19 से पीड़ित शासकीय अधिकारियों-कर्मचारियों के प्रति सहानुभूतिपूर्ण रूख अपनाते हुए शीघ्र ही ऐसे प्रकरण का निराकरण करें। उन्होंने कहा कि सेवानिवृŸा शासकीय कर्मचारियों की वाजिब समस्याओं का समय पर निराकरण करें। इससे संबंधित शिकायत नहीं आना चाहिए। राजीव गांधी किसान न्याय योजना का दायरा बढ़ाते हुए इस योजना में दलहन-तिलहन फसलों को शामिल किया गया है। धान के बदले अन्य फसलों को बढ़ावा देने की दिशा में कृषि विभाग कार्य करे। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत ऐसे किसान जो वृक्षारोपण करना चाहेंगे या औषधीय पौधे लगाएंगे, उन्हें प्रति एकड़ 10 हजार रूपए के मान से सहायता राशि दी जाएगी। इसके लिए किसानों को प्रोत्साहित करें। उन्होंने कहा कि जिले में स्वसहायता समूह द्वारा सबसे अच्छा कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मछलीपालन, कुकुटपालन को बढ़ावा दें। बंद पड़ी खदानों में भी मछलीपालन एवं आजीविका की गतिविधियां की जा सकती है। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों के पत्रों का समय पर निराकरण करें एवं सूचना जरूर दें। इसके लिए अलग से पंजी संधारित करें।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि सैम्पल लगातार लेना है। किसी भी गांव के कोरोना मुक्त होने पर उस गांव में दीवार लेखन करना है। जहां हाट बाजार चल रहे वहां एंटीजन टेस्ट के माध्यम से सैम्पल लें। कोई भी बिना मास्क के न रहे तथा नाक और मुँह मास्क से ढका रहे। कोरोना की तीसरी लहर के मद्देनजर बच्चों को सुरक्षित रखना है। इसके लिए आवश्यक सावधानी रखें। उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित करें तथा कोरोना का दूसरा डोज लगाने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करें और कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। इस अवसर पर वनमंडलाधिकारी राजनांदगांव  एन गुरूनाथन, अपर कलेक्टर  सीएल मारकण्डेय, एसडीएम राजनांदगांव  मुकेश रावटे सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। वीडियो कान्फ्रेस के जरिए सभी एसडीएम, जनपद सीईओ, सीएमओ एवं बीएमओ जुड़े रहे।

Spread the love