जिला प्रशासन का मानवीय चेहरा : मजदूर की मौत के कुछ घंटे बाद ही खुद अफसर सहायता राशि लेकर पहुंचे गांव….कार्यस्थल पर तबीयत बिगड़ने पर हुई थी मौत…..अफसरों ने मजदूर के परिजन संग बांटा दुख

गरियाबंद 27 दिसंबर 2020। गरियाबंद जिला प्रशासन का एक मानवीय चेहरा सामने आया है। कलेक्टर निलेश क्षीरसागर के निर्देस पर CEO चंद्रकांत वर्मा ने मृत मजदूर के परिजनों को त्वरित 25 हजार रुपये की मुआवजा राशि दी है। मनरेगा में मजदूरी कर रही श्यामा बाई की मौत आज दोपहर ही कार्य स्थल पर बेहोश होकर गिरने की वजह से हो गयी थी। तत्काल श्यामा बाई को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

इस घटना की सूचना जैसे ही जिला पंचायत CEO  चंद्रकांत वर्मा को हुआ, उन्होंने कलेक्टर निलेश क्षीरसागर से इस मामले में चर्चा कर मजदूरों को मृत्यु उपरांत मिलने वाली सहायता राशि को उपलब्ध कराया। दरअसल जिले के नागाबुड़ा में नाला निर्माण का काम चल रहा था, उसी कार्यस्थल पर श्यामा बाई 21 दिसंबर से कर रही थी। आज अचानक से उसकी तबीयत बिगड़ी और फिर वो बेहोश हो गयी। एंबुलेंस से उसे अस्पताल भेजा गया, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका।

घटना के बाद जिला पंचायत सीईओ चंद्रकांत वर्मा की पहल पर तुरंत मजदूर के परिजन को सहायता राशि उपलब्ध करायी गयी।

Spread the love