कोरोना से मरने वालों में पुलिस जवान कितने .. और मज़दूर कितने ये केंद्र सरकार को पता नहीं .. संसद में जवाब दिया केंद्र सरकार ने “देश भर में कोविड-19 के कारण मरे पुलिसकर्मियों के आँकड़े केंद्रीयकृत रुप से नहीं रखे जाते.. मज़दूरों का कोई डेटा मौजुद नहीं है”

नई दिल्ली,16 सितंबर 2020। कोरोना संक्रमण से विश्व जूझ रहा है और भारत में मरने वालों की संख्या 80 हज़ार पार कर चुकी है जबकि क़रीब पचास लाख नागरिक संक्रमित हो चुके हैं। ऐसे में जबकि कमोबेश हर तबका कोरोना के बढ़ते प्रभाव की जद में है, केंद्र सरकार के पास इस सवाल का जवाब नहीं है कि कोरोना से मरने वालों में पुलिसकर्मियों की राज्यवार संख्या कितनी है, केंद्र सरकार के पास इस बात की भी जानकारी नहीं है कि कोरोना से अब तक कुल कितने श्रमिकों की मौत हुई है।
ससंद में सांसद प्रसून बनर्जी ने सवाल किया था
“सरकार यह बताए देशभर में कोविड के कारण मरे पुलिसकर्मियों की संख्या कितनी है।”
वहीं केंद्रीय श्रम मंत्रालय से प्रश्न किया गया था कि वो यह बताए कि कोरोना काल में कितने श्रमिकों की मौत हुई और उन्हें क्या मुआवजा दिया गया।
तीनों ही सवालों के जवाब केंद्र सरकार के पास नहीं है। पुलिसकर्मियों की कोविड से मौत को लेकर राज्यवार आंकडे के मसले पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने जवाब में कहा
“देश भर में कोविड-19 वायरस से मरे पुलिसकर्मियों के आँकड़े केंद्रीयकृत रुप से नहीं रखें जाते।”
वहीं कोरोना के समय मज़दूरों की मौत और मुआवज़े के सवाल पर केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने कहा
“सरकार के पास ऐसा कोई डाटा नहीं है और चुंकि लॉकडाउन के दौरान मरने वाले मज़दूरों का डाटा ही नहीं है तो मुआवज़े का प्रश्न ही नहीं होता”

Spread the love