कोरोना में नवरात्रि…इस बार आपको व्रत रखना चाहिये या नहीं ?…नवरात्र में उपवास से किस तरह हो सकता है आपके शरीर का अनिष्ट…..बता रहे हैं डाक्टर… पढ़िये, नवरात्र को लेकर डाक्टर बता रहे क्या करें और क्या ना करें

Mrinalini sharma @npg.news

रायपुर 24 मार्च 2020 । पूरा देश कोरोना से परेशान है, केंद्र और राज्य सरकार बचाव के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही है। कहीं कर्फ्यू है तो कहीं  लॉक डाउन है….ऐसे में कल से मां दुर्गा के अराधना का पर्व नवरात्र शुरू हो रहा है। पूरे  देश में नवरात्र के मौके पर उपवास की पुरानी परंपरा है, लोग मां की अराधना में पानी और भोजन का त्याग करते हैं। लेकिन इस बार हालात अलग है….कोरोना के खौफ के बीच भक्त इस बार  नवरात्र कैसे मनायें ?…क्या इन हालातों में उपवास रखना सही है….डाक्टरों की राय हमने जानी…ताकि मां की अराधना के बीच आप अपने स्वास्थ्य का नुकसान तो नहीं कर रहे हैं। क्या कह रहे हैं राजधानी के नामी डाक्टर…

 

नारायण अस्पताल के एमडी सुनील खेमका से जब NPG ने बात की तो उनका कहना था

“जैसी रिपोर्ट देखी जा रही है कि कोरोना का इफ़ेक्ट ज्यादा उम्र वाले लोगो में ज्यादा देखा जा रहा है। ऐसे में अगर उन लोगों का इलाज पहले से चल रहा हो तो उन्हे व्रत बिल्कुल नहींं रखना चाहिए, पर उसके बाद भी किसी की श्रद्धा होती है कोई संकल्प लेता है और उनको व्रत रखना ही है, तो वो इस बात का खास ध्यान रखें की उनके शरीर को पूर्ण आहार मिल रहा है कि नहीं…खाली पेट बिल्कुल ना रहे, फल, जूस और कुछ न कुछ खाकर ही उपवास की रश्म निभायें। पर एक डॉक्टर के नाते मैं लोगों से यही अपील करूंगा इस साल व्रत ना रखे। खुद भी सुरक्षित रहे और दूसरों को भी रखे”

 

एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट के हेड डॉ स्मित श्रीवास्तव बतातें है

लोगों को बिल्कुल भी व्रत नहीं रखना चाहिए, जैसा कि सबको पता है ये बीमारी कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों पर अटैक करता है। जिनका इम्युन कमजोर होता है या फिर जो बुजुर्ग व बीमार हैं, उन्हें ज्यादा खतरा है, ऐसे में लोगों को अपनी सेहत का खासा ख्याल रखना होगा। व्रत की वजह से हमारा इम्युन सिस्टम कमजोर हो जाता है, ऐसे में कोरोना का खतरा बढ़ जायेगा, ऐसे में  जो लोग फास्ट रखेंग और पूरा दिन भूखे रहेंगे तो उन्हे कोरोना का असर ज्यादा गंभीर रूप से हो सकता है। मेरी सलाह है लोग इस नवरात्र माता से माफी मांगकर उपवास से दूर हों और  घर पर रहकर अपनी सेहत का ख्याल रखे। ये भी मां दुर्गा के लिए ये ही व्रत रखने के समान होगा

 

मेडिसाईन हास्पीटल के डायरेक्टर डॉ सुशील शर्मा का कहना है

“मेरे नजरिये से ये वक्त हमारे इम्युन सिस्टम को स्ट्रांग करने का है और इसमें व्रत एक अच्छा माध्यम हो सकता है,..हालांकि मैं व्रत रखने के लिए नहीं बोल रहा, पर जो भी इंसान फास्ट रख रहा है वो खाली पेट ना रहे…फास्ट के कारण बहुत से लोग शराब और नॉनवेज छोड़ देते है तो उन लोगों के हिसाब से फास्ट अच्छा ही है, व्रत में बहुत सी चीज़े खाई जाती है जिससे इम्यून सिस्टम और स्ट्रांग होता है…जैसे कि फल, सब्जी , कुटु आटा, समा के चावल इन सब चीज़ो से लोगों को काफी मात्रा में प्रोटीन मिलेगा…और सबसे बड़ी बात बाहर के खाने से दूर रहेंगे…जहां पूरा प्रदेश लॉकडाउन है लोग घरों में अपनी सेहत बना सकते है…घर में रहकर हेल्दी फूड का सेवन करे और एक्सरसइज करे…और फास्ट रखे तो प्रोटीन का खास ख्याल रहे कोई भी खाली पेट ना रखे”

 

रायपुर के ईएनटी स्पेशलिस्ट डॉ.राकेश गुप्ता  बताते हैं….

“इस साल व्रत लोग न रखें तो ही ठीक है, राकेश गुप्ता कहते है भगवन की श्रद्धा एक तरफ,  लेकिन इस वक्त जब हमारा देश एक महामारी को झेल रहा है। ऐसे में लोगो को अपनी सेहत का ध्यान खुद ही रखना होगा। खासकर बच्चो और उन बुजुर्गों को जो किसी बीमारी से पहले से ग्रसित है या उन्हे  कोई मेडिसीन चल रही हो, उन्हें बिल्कुल भी उपवास नहीं करना चाहिये। सबको पता है कोरोना से देश में अब तक 9 मौत हो चुकी है, ऐसे में लोग जितना हो घरों में रहे और भगवान से माफ़ी मांगते हुए व्रत ना रखे”

Spread the love