हनी ट्रैप : डेढ़ लाख का मोस्टवांटेड हुआ गिरफ्तार…. हनी ट्रैप और मानव तस्करी समेत 56 मामलों में 7 महीने से फरार था

इंदौर 28 जून 2020। हनी ट्रैप का मास्टरमाइंड और 56 से ज्यादा क्रिमिनल का मोस्ट वांटेड जीतू सोनी आखिरकार पुलिस के शिकंजे में आ ही गयी। 7 महीने से पुलिस को गच्चा दे रहा ये शातिर अब जाकर गुजरात में पकड़ाया है। जीतू पर 1.50 लाख रुपये का इनाम था। डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्रा ने जीतू की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि सोनी के भाई महेन्द्र सोनी (64) को मानव तस्करी के आरोप में गुजरात के अमरेली जिले के सावरकुंडला से बुधवार रात गिरफ्तार किया गया था। इस बीच, सियासी आलोचक सूबे में तीन महीने पहले हुए सत्ता परिवर्तन के बाद सोनी की गिरफ्तारी के राजनीतिक मायने भी तलाश रहे हैं। कयास लगाए जा रहे हैं कि अब कुख्यात ‘हनी ट्रैप’ मामले को लेकर सरगर्मियां तेज हो सकती हैं।

आरोपी जीतू सोनी को इंदौर क्राइम ...

राज्य में कमलनाथ सरकार ने शिवराज सिंह चौहान और उनके टॉप सलाहकारों और बीजेपी नेताओं की लड़कियों से कथित बातचीत को अखबार में छापने के बाद जीतू सोनी के खिलाफ एक्शन लिया था. जीतू सोनी ने साथ बातचीत का ऑडियो अपने अखबार के यूट्यूब चैनल पर भी जारी कर दिया था. मध्य प्रदेश पुलिस ने उस पर एक लाख साठ हजार रुपये का इनाम घोषित किया था. पूर्व की कांग्रेस सरकार के समय यानी 31 नवंबर 2019 को पुलिस ने पहली बार उसके होटल माय होम सहित अन्य ठिकानों पर छापा मारा था. तब जीतू सोनी फरार हो गया था. तब से पुलिस उसके तलाश में जुटी हुई थी.

दरअसल हनी ट्रैप का खुलासा करके सुर्खियों में आए अखबार मालिक जीतू सोनी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई थी. इंदौर नगर निगम ने प्रेस कॉम्प्लेक्स क्षेत्र में स्थित सांझा लोकस्वामी के दफ्तर को भी तोड़ने का आदेश दिया था. जीतू सोनी सांझा लोकस्वामी अखबार के मालिक हैं. अखबार के लिए जीतू सोनी ने इंदौर विकास प्राधिकरण (आईडीए) से जमीन लीज पर ली थी, जिसकी लीज को खारिज कर दिया गया था. जीतू सोनी के कई होटलों और बंगलों को पहले ही जमींदोज किया जा चुका है.

डीआईजी हरीनारायणचारी मिश्र के मुताबिक जीतू उर्फ जितेंद्र सोनी पर शहर के ज्यादातर थानों में मानव तस्करी, दुष्कर्म, अपहरण, धोखाधड़ी, अवैध वसूली के 45 से ज्यादा केस दर्ज हैं। तत्कालीन कांग्रेस सरकार के समय यानी 31 नवंबर को पुलिस ने पहली बार उसके होटल माय होम सहित अन्य ठिकानों पर छापा मारा थ। तब जीतू सोनी तो भाग गया लेकिन उसका बेटा अमित सोनी पकड़ा गया।

चार दिन पूर्व क्राइम ब्रांच की टीम गुजरात के अमरेली से उसके बड़े भाई महेंद्र को पकड़ कर लाई। तब जीतू सोनी राजकोट स्थित एक फार्म हाउस से बेटे विक्की सोनी व भतीजे जिग्नेश सोनी को लेकर भाग गया। शुक्रवार को दोबारा लोकेशन निकाली गई ओर छह टीमों ने अलग अलग जगहों पर छापे मारे। इस बार भागने का मौका नहीं दिया ओर जीतू को पकड़ लिया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.