हनी ट्रैप गैंग पकड़ाया : ….प्रेमजाल की आड़ में रेप का आरोप लगाकर वसूलती थी लाखों रुपये… इस तरह लड़कियों का गैंग करता था काम… वकील भी थे ट्रैप गैंग का हिस्सा.. पढ़िये

कोटा 1 जुलाई 2020। एक बड़े हनी ट्रैप गैंग का खुलासा हुआ है। गैंग में शामिल महिलाएं पहले लोगों को प्रेम जाल में फंसाती थी और फिर बाद में उन पर बलात्कार का आरोप लगाकर मोटी रकम वसूलती थीं. इस मामले में पुलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने गैंग के मुख्य आरोपी कैब चालक और दो महिलाओं को गिरफ्तार किया है. साथ ही इस पूरी वारदात में साथ देने वाले वकील को भी पुलिस गिरफ्तार करने की कोशिश में जुटी है, जो इस गिरोह का सक्रिय सदस्य है.

पुलिस ने प्रताप कॉलोनी निवासी मुमताज उर्फ जीनत प्रताप कॉलोनी, हनुमान बस्ती दादाबाड़ी निवासी अनीता राठौड़ और मुख्य आरोपी व ओला के ड्राइवर रवांजना डूंगर सवाई माधोपुर हाल प्रताप कॉलोनी कोटा निवासी निसार अहमद को गिरफ्तार किया है. साथ ही इनके पास से दो इस स्कूटी और एक ओला कैब जब्त तक की है. इसके अलावा इस मामले में शामिल वकील बाबूलाल मेघवाल की तलाश शुरू कर दी है. पुलिस का कहना है कि गैंग के और भी सदस्य हो सकते हैं. ऐसे में आरोपियों से गहन पूछताछ के बाद अन्य सदस्यों का भी खुलासा हो सकता है.

1.40 लाख हड़पे, 10 लाख और मांग रहे

भीमगंजमंडी थानाधिकारी हर्षराज सिंह खरेड़ा के अनुसार बिजली विभाग में लाइनमैन के पद पर तैनात सीताराम के घर घरेलू नौकर की हैसियत से काम करने के बाद उसके ही खिलाफ बलात्कार का झूठा मुकदमा लगाने की एवज में 140000 रुपए अधिवक्ता बाबूलाल मेघवाल के जरिए हड़प लिए है. साथ ही बाबूलाल बार-बार फोन कर 10 लाख रुपए की डिमांड कर रहा था.

कई लोगों के खिलाफ करवाए झूठे मुकदमे दर्ज पुलिस का कहना है कि महिलाएं हाड़ौती में कई लोगों से इस तरह हनी ट्रैप के जाल में फंसा कर लोगों से रुपए हड़प चुकी हैं. उनके खिलाफ झूठे मुकदमे भी बलात्कार के दर्ज करवाए है. इन लोगों ने आरके पुरम, दादाबाड़ी व अनंतपुरा में मुकदमे दर्ज करवाए हैं. पुलिस का कहना है कि यह महिलाएं स्कूटी लेकर शहर के अलग-अलग हिस्सों में घूमती रहती थी और लोगों को अपने जाल में फंसाने का काम करती थी.

ऐसे फंसाया था अपने जाल में

भीमगंजमंडी सीआई हर्षराज सिंह खरेड़ा ने बताया कि 20 जून को बिजली विभाग के लाइनमैन सीताराम ने हनीट्रैप मामले की शिकायत दी। उसने पुलिस को बताया कि लॉकडाउन से पहले एक महिला उसके घर घरेलू कार्य करने की बात करने आई। लेकिन, उसने इनकार कर दिया। लॉकडाउन खत्म होते ही 6 जून को एक युवती का फोन आया, जिसने कहा कि उसे काम की जरूरत है और उसकी मां भी काम मांगने आई थी। 7 जून को युवती सीताराम के घर पहुंच गई, जहां पैसे ज्यादा मांगने पर सीताराम ने मना कर दिया और एक दिन का मेहनताना देकर उसे रवाना कर दिया। करीब 5 दिन बाद एक वकील बाबूलाल मेघवाल का फोन सीताराम के पास गया और उसने कहा कि तुमने झाडू-पोछा करने आई युवती से दुष्कर्म किया है।

तुम्हारे खिलाफ केस दर्ज करवाएगी, लेकिन मैं समझौता करवा सकता हूं। सीताराम डर गया और 1.40 लाख रुपए दे दिए। कुछ दिन बाद वकील 10 लाख रुपए मांगने लगा तो सीताराम ने पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने प्रताप कॉलोनी, रेलवे कॉलोनी की मुमताज उर्फ जीनत, हनुमान बस्ती की अनीता राठौड़ और प्रताप कॉलोनी के निसार अहमद को गिरफ्तार किया है। एक कार और 2 स्कूटी भी जब्त की है।

Spread the love