2000 रुपये के नोटों की छपाई क्या बंद हो गई है?….अब संसद में वित्त मंत्री ने दिया है जवाब…जानिये 2000 रूपये को लेकर क्या कहा…

नयी दिल्ली 21 सितंबर 2020। देश में 2000 रुपये के करंसी नोटों पर अक्सर यह बातें हो रही हैं कि अब नए नोटों की छपाई नहीं हो रही है. वित्त मंत्रालय ने खुद इस मामले पर संसद में बयान जारी किया है. मंत्रालय ने लोकसभा को बताया कि 2000 रुपये के करेंसी नोटों की छपाई बंद करने का अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है.एक सवाल के लिखित जवाब में वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि सरकार बैंक नोटों की छपाई को लेकर रिजर्व बैंक से सलाह लेकर कोई फैसला लेती है. इससे पब्लिक डिमांड के आधार पर सिस्टम में करंसी नोटों का तालमेल बना रहे.

बता दें, 2019-20 और 2020-21 के दौरान 2000 रुपये के करंसी नोटों की छपाई के कोई आर्डर नहीं दिए गए. हालांकि, मंत्री ने यह कहा कि अभी तक सरकार की तरफ से इन नोटों की छपाई बंद करने का निर्णय नहीं किया गया है.रिजर्व बैंक की 2019-20 की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक मार्च, 2018 के अंत तक चलन में मौजूद 2,000 के नोटों की संख्या 33,632 लाख थी, जो मार्च, 2019 के अंत तक घटकर 32,910 लाख पर आ गई. मार्च, 2020 के अंत तक चलन में मौजूद 2,000 के नोटों की संख्या और घटकर 27,398 लाख पर आ गई.

रिपोर्ट के अनुसार, प्रचलन में कुल मुद्राओं में 2,000 के नोट का हिस्सा मार्च, 2020 के अंत तक घटकर 2.4 प्रतिशत रह गया. यह मार्च, 2019 के अंत तक तीन प्रतिशत और मार्च, 2018 के अंत तक 3.3 प्रतिशत था. रिपोर्ट के अनुसार, 2018 से तीन साल के दौरान 500 और 200 रुपये के नोटों के प्रसार में उल्लेखनीय इजाफा हुआ है. मूल्य और मात्रा दोनों के हिसाब से 500 और 200 रुपये के नोट का प्रसार बढ़ा है. केंद्रीय मंत्री ने आरबीआई के हवाले से कहा कि कोरोना संकट की वजह से लॉकडाउन के दौरान नोटों की छपाई बंद रही थी. लेकिन बाद में केंद्र/राज्य सरकारों की ओर से जारी गाइडलाइंस के अनुसार अब प्रिटिंग हो रही है. कर्मचारियों में कोरोना संक्रमण की वजह से महाराष्ट्र के नासिक में मौजूद सरकारी छापेखाने में नोटों की छपाई तीन बार रोकनी पड़ी थी.

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.