DGP गुप्तेश्वर पांडेय के साथ गुगली : JDU ने कर लिया किनारा, गुप्तेश्वर पांडे को मिलेगा बक्सर से बीजेपी का सहारा?… लड़ेंगे विधायक का चुनाव या फिर लोकसभा उपचुनाव में उतरेंगे

पटना 7 अक्टूबर 2020। DGP की नौकरी छोड़ विधायक बनने का सपना देख रहे पूर्व IPS गुप्तेश्वर पांडेय गुगली का शिकार हो गये हैं। जिन दो सीटों पर चुनाव लड़ने का दावा गुप्तेश्वर पांडेय ने ठोका था, वो दोनों सीट JDU के खाते में आयी ही नहीं। डीजीपी पद से रिटायरमेंट के बाद JDU में शामिल हुए गुप्तेश्वर पांडेय बक्सर और ब्रह्मपुर से चुनाव लड़ने की दावेदारी कर रहे थे, लेकिन सीट शेयरिंग में जो JDU को 122 सीटें मिली, उनमे बक्सर और ब्रह्मपुर की सीटें नहीं थी।

अब गुप्तेश्वर पांडेय के चुनाव लड़ने पर सस्पेंस गहरा गया है, हालांकि उनके लिए उम्मीद की एक किरण इसलिए बची है, क्योंकि अभी तक बीजेपी ने उन दो सीटों पर अपने उम्मीदवारों का ऐलान नहीं किया है।बक्सर जिले की 4 विधानसभा सीटों में से दो डुमराव और राजपुर (SC) जेडीयू के कोटे में आई है.

जेडीयू ने इन दोनों सीटों से अपने उम्मीदवारों की घोषणा भी कर दी है. एक तरफ जहां डुमराव से अंजुम आरा को पार्टी ने अपना उम्मीदवार बनाया है तो वहीं दूसरी तरफ राजपुर से बिहार सरकार के मंत्री संतोष निराला पार्टी के उम्मीदवार हैं.बक्सर जिले की बाकी दो सीटें (ब्रह्मपुर और बक्सर) बीजेपी के खाते में गई हैं. इससे एक बात अब स्पष्ट हो चुकी है कि जेडीयू में शामिल हुए गुप्तेश्वर पांडे को पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट नहीं दिया है और उन्हें फिलहाल छोड़ दिया है.

लोकसभा उपचुनाव में मिल सकता है मौका

हालांकि, माना जा रहा है कि अगर बीजेपी ने भी गुप्तेश्वर पांडे को टिकट नहीं दिया तो फिर वह वाल्मीकिनगर लोकसभा उपचुनाव में जेडीयू के उम्मीदवार हो सकते हैं. वाल्मीकिनगर लोकसभा उपचुनाव भी बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही होना है. दिलचस्प बात है कि 2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने पुलिस सेवा से वीआरएस लेकर बक्सर चुनाव लड़ने के लिए बीजेपी से टिकट की मांग की थी मगर उन्हें टिकट नहीं मिला था. इसके 9 महीने के बाद गुप्तेश्वर पांडे ने अपना वीआरएस वापस ले लिया था और पुलिस सेवा में दोबारा बहाल हो गए थे.

अब बीजेपी से गुप्तेश्वर पांडे को उम्मीद!

सूत्रों के मुताबिक गुप्तेश्वर पांडे अब ब्रह्मपुर या बक्सर सीट से चुनाव लड़ने के लिए जुगत लगा रहे हैं. गुप्तेश्वर पांडे पटना से लेकर दिल्ली तक बीजेपी से टिकट पाने के लिए दौड़ लगा रहे हैं.गौरतलब है कि बीजेपी ने पहले चरण के चुनाव के लिए जिन सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा की है उनमें अभी ब्रह्मपुर और बक्सर से उम्मीदवारों के नाम तय नहीं किये गये हैं.ऐसे में गुप्तेश्वर पांडे के लिए उम्मीद की किरण अभी बाकी है. अगर बीजेपी उन्हें किसी एक सीट से अपना उम्मीदवार बना दे तो जिस पार्टी में वह टिकट की आस लेकर शामिल हुए थे उस पार्टी ने तो गुप्तेश्वर पांडे को विधानसभा चुनाव में पैदल कर दिया.

जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने बुधवार को पटना में पार्केटी के कोटे में आई सभी 115 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम की सूची जारी कर दी. गौरतलब है कि जेडीयू-बीजेपी गठबंधन में सीट को लेकर हुए समझौते के मुताबिक जेडीयू के खाते में 122 सीटें आई थीं. इनमें से जेडीयू ने अपने कोटे से 7 सीटें जीतनराम मांझी की पार्टी हम को दे दी थी. जेडीयू ने 115 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं.

बीजेपी को 243 में से 121 सीटें मिली थीं. बीजेपी ने विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को अपने कोटे की सीटों में से 11 सीटें दे दी हैं. बीजेपी 110 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.