62 एनकाउंटर कर चुके पूर्व DSP ने कर ली आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा- महीनों से सोया नहीं हूं

पटना 24 जून 2020। बिहार में 37 साल की पुलिस की नाैकरी में 64 एनकाउंटर करने वाले रिटायर डीएसपी कृष्ण चंद्रा ने लाइसेंसी पिस्टल से गाेली मारकर खुदकुशी कर ली। राज्य में चंद्रा एनकाउंटर स्पेशलिस्ट इंस्पेक्टर के नाम से चर्चित थे। उन्होंने परिवार और पुलिस महकमे के लिए एक सुसाइड नोट छोड़ा है, इसमें डीएसपी चंद्रा (68 साल) ने गंभीर डिप्रेशन का शिकार होने का जिक्र किया। वे 16 साल से बीमारी का इलाज करा रहे थे, लेकिन इससे उबर नहीं पाए।

चंद्रा को बिहार पुलिस के जाबांज अधिकारियों में गिना जाता था और 37 साल की नौकरी में उन्होंने 60 से ज्यादा एनकाउंटर किए थे। रिटायर होने के बाद वो पटना में ही अपने परिवार के साथ रहते थे। पटना पुलिस को जब आत्महत्या की खबर मिली तो हड़कंप मच गया और मौके पर कई अधिकारियों ने खुद जाकर जांच पड़ताल की। के चंद्रा पटना के बेउर थाना क्षेत्र के मित्रमंडली कॉलोनी फेज-2 में अपने निजी आवास में रहते थे।आत्महत्या से पहले उन्होंने दो पन्नों का सुसाइड नोट भी लिखा था जो पुलिस ने बरामद कर लिया है।

उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा, बीते 16 सालों से मैं अपना इलाज करा रहा था। मानसिक अवसाद की वजह से मैं कई महीनों से सोया नहीं हूं और पड़ोसी की वजह से अब उनका अवसाद और ज्यादा बढ़ गया है जिसकी वजह वो आत्महत्या जैसा कदम उठाने पर मजबूर हो गए हैं। उन्होंने आत्महत्या के लिए अपनी पत्नी और बच्चों से माफी भी मांगी है और लिखा है कि इसके अलावा उनके पास कोई और रास्ता नहीं बचा था। उन्होंने दूसरे सुसाइड नोट में अपने बेटे को संबोधित करते हुए लिखा है कि उनकी मौत के बाद उसे क्या-क्या और कैसे करना है।

डीएसपी चंद्रा बेउर थाना के मित्रमंडल काॅलाेनी फेज-2 में रहते थे। वे एसटीएफ के डीएसपी रहे। साेनपुर में रेल डीएसपी से 2012 में रिटायर हुए। उन्हें ड्यूटी के दाैरान 2 बार गाेली भी लगी पर बच गए थे। उनके बेटे बंटी ने बताया कि मंगलवार सुबह मां नीचे थी। मैं पापा के बेड रूम के बगल वाले कमरे में था। करीब 8 बजे गाेली चलने की आवाज सुनाई दी। पापा के रूम में गए ताे देखा कि वे फर्श पर पड़े थे। पास में उनकी पिस्टल पड़ी थी।

 

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.