comscore

VIDEO-सड़क पर सैलाब : पहली बारिश में ही बह गयी लाखों की सड़क….कई गांवों से संपर्क टूटा… मानसून ने खोल दी भ्रष्टाचार की पोल … इस जिले में बारिश का रिकार्ड टूटा

कोरबा 15 जून 2021। छत्तीसगढ़ में मानसून ने दस्तक दे दी है, और मानसून की पहली ही बारिश प्रदेश के कई इलाकों में आफत की बारिश बनकर बरसी है। पिछले 24 घंटे के रिकार्ड की माने तो पूरे प्रदेश में 14 जून को सर्वाधिक बारिश कोरबा के पोड़ी-उपरोड़ा ब्लाॅक में 187.8 मिली मीटर दर्ज किया गया। वहीं लगातार हुई बारिश का नतीजा ये रहा कि पोड़ी ब्लाॅक में गुरसिया-टुनियाकछार सड़क मार्ग का करीब 35 मीटर हिस्सा पानी के तेज बहाव में बह गया। प्रदेश में हो रही झमाझम बारिश से जहां किसानो के चेहरे खिल गये है, वही कोरबा में मानसून की पहली बारिश आफत की बारिश बनकर बरसी।

पोड़ी-उपरोड़ा ब्लाॅक मेें सर्वाधिक बारिश से जहां प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क की कई सड़के कट गयी, वही गुरसिया-टुनियाकछार मार्ग का 35 मीटर सड़क ही बह गया। बारिश के कारण सड़क के बह जाने से कई गांव का संपर्क टूट गया है। वहीं कटघोरा ब्लाॅक में 90.0 मिली मीटर बारिश होने से क्षेत्र के कई नदी-नाले उफान पर है। कटघोरा ब्लाॅक के हरदीबाजार-रैकी मार्ग पर लीलागर नदी घंटो देर तक उफान पर रही, पुल के करीब 3 फीट उपर से लीलागर नदी का तेज पानी बहता रहा, और उफनती नदी के बीच लोग जान जोखिम में डालकर पुल पार करने को मजबूर नजर आये। वहीं इस रिकार्ड बारिश का असर एसईसीएल की कोयला खदानों के साथ ही एसईसीएल की कालोनी में भी दिखा।

यहां सोमवार को हुई लगातार तेज बारिश के दौरान जहां एसईसीएल गेवरा खदान के कोल फेस मार्ग पर जल भराव के बीच खतरे में कोयला परिवहन किया जाता रहा, वही एसईसीएल दीपका के  प्रगति नगर कालोनी में बारिश का पानी घरो में घूस गया। कालोनी में जल भराव की स्थिति निर्मित होने की जानकारी मिलते ही कटघोरा एसडीएम सूर्यकिरण तिवारी मौके पर पहुंची। एसडीएम ने बारिश के पानी की निकासी को लेकर लापरवाही बरतने वाले एसईसीएल दीपका के सीजीएम को नोटिस जारी कर 48 घंटे के भीतर पानी निकासी की व्यवस्था बहाल करने की चेतावनी दी है।

जल्द बहाल होगी क्षतिग्रस्त सड़कें- कलेक्टर

कोरबा के पोड़ी ब्लाॅक में लगातार हुई रिकॉर्ड बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क को हुई है। कई सड़के जहां बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुई है, वही क्षतिग्रस्त सड़को में गुरसिया-टूनियाकछार मार्ग का बड़ा हिस्सा पानी के तेज बहाव में बह गया। सड़क बह जाने से कई गांव के संपर्क जिला मुख्यालय से कट गये है, ऐसे में कोरबा कलेक्टर रानू साहू ने तत्काल सड़क मरम्मत कर अवरूद्ध मार्ग को जल्द से जल्द बहाल करने के साथ ही, गाँवो तक संपर्क जोड़ने के लिए वैकल्पिक मार्ग तैयार करने का निर्देश जवाबदार अधिकारियों को दिया है।

कोरबा और बीजापुर जिले में हुई सर्वाधिक बारिश

मौसम विज्ञान केंद्र रायपुर की माने तो पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक बारिश कोरबा के पोड़ी ब्लाॅक में 187.8 मिली मीटर रिकार्ड बारिश दर्ज किया गया है, वही दूसरे नंबर पर बीजापुर जिले का भैरमगढ़ ब्लाॅक है, जहां 120.0 मिली मीटर बारिश हुई, जबकि पूरे प्रदेश में तीसरे नंबर पर कोरबा जिले का ही कटघोरा ब्लाॅक है जहां 90.0 मिली मीटर रिकार्ड बारिश दर्ज किया गया।

Spread the love