DSP अनामिका पर FIR : पति से कथित अफेयर विवाद में महिला से मारपीट, दुर्व्यवहार के साथ आत्महत्या मामले में DSP के खिलाफ मामला दर्ज…. उधर डीएसपी अनामिका ने इस पूरे प्रकरण पर दी अपनी सफाई…. एएसपी रोहित झा बोले….

भिलाई 19 जुलाई 2020। पति के साथ कथित अफेयर को लेकर महिला से विवाद और आत्महत्या मामले में चर्चा में आई DSP अनामिका जैन श्रीवास्तव की मुश्किले बढ़ गयी है। एसपी प्रशांत ठाकुर के निर्देश पर DSP अनामिका और उसकी एक साथी पर FIR दर्ज कर लिया गया है। SP प्रशांत ठाकुर ने NPG से डीएसपी के खिलाफ मामला दर्ज किये जाने की पुष्टि की है। परिजनों का कहना है कि शुक्रवार की शाम DSP अनामिका जैन ने अपने पति के साथ मृतका सुखविंदर के अवैध संबंध का आरोप लगाकर विवाद शुरू कर दिया। डीएसपी अपनी एक साथी के साथ मृतका के घर पहुंची थी।

लेडी DSP की थप्पड़ और अवैध संबंध के आरोप से आहत महिला ने की आत्महत्या….. पति के साथ महिला के अवैध रिश्ते का लगाया था घर आकर आरोप…. बेटी के सामने मां को थप्पड़ भी मारा था

आरोप ये भी है कि मृतका ने ना सिर्फ महिला के साथ सरेराह विवाद किया, बल्कि मोहल्लेवासियों के सामने भी उसे बेइज्जत किया। हद तो तब हो गयी, जब डीएसपी महिला की 17वर्षीय बेटी को बुलाने और उसे सबकुछ बताने पर अड़ गयी। परिजनों का कहना है कि उन्होंने इस मामले में बच्ची को ना घसीटने की अपील की तो डीएसपी वही ये कहते हुए डट गयी कि जब तक वो नहीं आयेगी, तब तक वो यहां से नहीं जायेगी।

आरोप है कि मृतका की बेटी के सामने उसकी मां से दुर्व्यहार किया गया और उसे सबके सामने  थप्पड़ भी मारा गया। पुलिस ने आरोपी डीएसपी अनामिका पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मामला दर्ज किया है। इस मामले में एडिश्नल एसपी रोहित झा ने एनपीजी को बताया कि ..

“डीएसपी के खिलाफ परिजनों ने शिकायत की थी, शिकायत की प्रारंभिक जांच के उपरांत मामला दर्ज कर लिया गया है, आत्महत्या के लिए प्रेरित करने की धारा के तहत मामला दर्ज किया गया है, इस मामले में अभी जांच चल रही है, आगे जैसे-जैसे जांच बढ़ेगी उस अनुरूप कार्रवाई की जायेगी”

इधर इस मामले में पहली बार डीएसपी अनामिका जैन की भी सफाई सामने आयी है। उन्होंने विवाद करने और मारपीट करने जैसी बातों से सीधे तौर पर इनकार किया है। उन्होंने कहा कि उन्होंने कोई विवाद नहीं किया, उलटे परिजनों ने उनसे दुर्व्यवहार किया। उन्होंने कहा है ..

विवाद मैंने नहीं किया.. उसके परिजनों ने हमसे किया.. मैं केवल समझाने गई थी.. वो लोग उल्टा विवाद करने लगे तो हम लोग लौट आए.. मैं स्वाभाविक रुप से आपत्ति करने का हक अधिकार रखती हूँ मैं केवल इसलिए गई थी.. मैं इस बार उसके परिजनों को भी बताना चाहती थी.. मैं केवल इसलिए गई.. मैं कोई विवाद करने नहीं गई थी और ना मैंने विवाद किया.. मैंने बात रखी बस”

Spread the love