महिला SDM के जेल जाने के बाद शादी में आया रोड़ा, अदालत ने शादी के नाम पर जमानत देने से किया इंकार

दौसा, 25 जनवरी 2021। राजस्थान का बहुचर्चित घूस कांड मामले में गुरुवार को रिश्वतखोर एसडीएम पिंकी मीणा को अदालत ने जमानत देने से दो टूक इंकार कर दिया है। पिंकी और उनके परिजनों ने अगले महीने शादी होने का हवाला देते हुए कोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी।
लेकिन सरकारी वकील ने जमानत का विरोध किया। उन्होंने दलील देते हुए कहा कि यदि रिश्वतखोर पिंकी को जमानत मिलती है तो जांच प्रभावित हो सकती है। इसी आधार पर न्यायालय ने आरएएस पिंकी मीणा की जमानत याचिका खारिज कर दी।
पिंकी मीणा ने जमानत याचिका में कहा था कि उन्हें बेवजह फंसाया जा रहा है। एसीबी को न तो उनके पास रिश्वत की राशि मिली और न ही उन्होंने रिश्वत मांगी थी।
घूसखोर एसडीएम पिंकी मीणा की फरवरी में शादी होना तय हुई थी और उनकी शादी एक न्यायिक अधिकारी से होना तय हुआ था। हालांकि अब जमानत याचिका खारिज होने से शादी पर भी संशय के बादल हैं। इधर, एसीबी की कार्रवाई से पहले पिंकी मीणा के परिजन और खुद पिंकी मीणा शादी की तैयारियों में जुटी हुई थी। इसके लिए दौसा के समीप जटवाड़ा में एक आलीशान होटल को भी बुक कर रखा था।

SDM गिरफ्तार: CM दे रहे थे भ्रष्टाचार पर भाषण, उसी वक्त महिला SDM ने ली पांच लाख की घूस….

घूसखोर एटीएम पिंकी मीणा के सरकारी आवास पर गुरुवार को बिजली निगम की टीम जेईएन जगदीश मीणा के नेतृत्व में पहुंची और एसडीएम का विद्युत कनेक्शन काट दिया। एसडीएम के द्वारा बिजली का बिल नहीं जमा कराया था और उनका 125154 रुपए का बिजली बिल बकाया था। जब उस पद को एसडीएम बांदीकुई उपखंड अधिकारी की सीट पर मौजूद थी तो बिजली निगम के अधिकारी नोटिस देकर इतिश्री पूरी कर लेते थे लेकिन एसीबी की कार्रवाई के बाद बिजली निगम की कुंभकरणी की नींद टूटी। जैसे ही रिश्वतखोर एसडीएम जेल गई तो बिजली निगम उनका कनेक्शन काट दिया।

दोनों SDM को जेल: एसीबी कोर्ट ने घूसखोर दोनों अफसरों को 15 दिन के लिए भेजा जेल, IPS मनीष अग्रवाल भी जाँच के रडार पर…..

 

Spread the love