एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट में अब मेट्रो सिटी जैसी सुविधाएं….2D से 3D आधुनिकतम इलेक्ट्रो फिजियोलॉजी मशीन द्वारा हो रहा दिल का इलाज

रायपुर, 21 नवंबर 2020। एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट मेडिकल कॉलेज रायपुर में हृदय की तेज धड़कनों का इलाज 13 अगस्त 2018 से किया जा रहा है पूर्व में इसके इलाज में 2D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी मशीन का उपयोग किया गया था, जिसे नई दिल्ली से किराए पर मंगाया गया था इस इलाज से अभी तक कई मरीज लाभान्वित हो चुके हैं . 2D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी मशीन से सीमित प्रकार की हृदय की धड़कनों का ही इलाज संभव है इसलिए  स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने 3D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी मशीन का एडवांस कार्डियक इंस्टिट्यूट में छत्तीसगढ़ की जनता को लोकार्पण किया यह मशीन अत्याधुनिक मशीन है और अपने प्रकार में विलक्षण इसके समकक्ष मशीन दक्षिणी एशियाई देशों में भी उपलब्ध नहीं

इस मशीन के के उपयोग से जटिल तम हृदय की धड़कनों के विकार का निदान और उपचार सुगमता से मरीज की अधिक सुरक्षा और कम समय में संभव 2D विधि से मरीज के इलाज करने में अनुमानित कई घंटों का समय लग सकता है चिंटू 3D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी विधि से मरीज का इलाज करने में यह समय अवधि लगभग 1/4 हो जाती है.

20 नवंबर 2020 को 2D विधि से दो मरीज जिनको हृदय की गति के तेज हो जाने की बीमारी थी उनका इलाज किया गया इसमें एक मरीज महाराष्ट्र के 1 बड़े शहर से रायपुर में एडवांस कार्ड एटीट्यूट में उपलब्ध सुविधा का लाभ भी लिया तथा शनिवार 21 नवंबर 2020 को 2 मरीज जिनको हृदय की जटिल धड़कन की बीमारी थी उनका 3D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी और रेडियो फ्रिकवेंसी एबलेशन के द्वारा इलाज सफलतापूर्वक किया गया

एक मरीज जिसकी उम्र लगभग 45 वर्ष है 19 तारीख की शाम को हृदय की खतरनाक ढंग से बढ़ने वाली बीमारी से श्वास रोग विभाग से एडवांस कार्ड एक इंस्टिट्यूट में हार्ट फेलियर के साथ शिफ्ट किया गया सभी तरह की दवा के उपयोग के बाद भी इस मरीज की धड़कन 200 की गति से अधिक ही चल रही थी इस मरीज को एडवांस कार्ड इंस्टिट्यूट के कैथल में पहले इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी जांच की गई और FASICULAR VENTRICULAR TACHYCARDIA नामक हृदय की धड़कन के कठिन और जटिल रोग से ग्रसित पाया गया इसकी त्रिआयामी या 3D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी के द्वारा हृदय के अंदर गति के संचार का नक्शा बनाया गया और इस धड़कन कारक दिल के उस स्थान को चिन्हित किया गया और इसके बाद उस स्थान को रेडियो फ्रिकवेंसी एबलेशन द्वारा हृदय के अंदर जलाकर इस रोग को ठीक कर दिया गया

एक अन्य मरीज जोकि 40 वर्ष की महिला जिन्हें काफी अरसे से तेज दिल की धड़कन ATRIAL FLUTTER के साथ 2:1 ब्लॉक होने के कारण हार्ड कार्य क्षमता 30% तक कम हो गई थी ऐसे मरीज का भी 3D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी विधि के द्वारा पहले रोग के हृदय के अंदर सर्किट का नक्शा बनाया गया एवं के बाद रेडियो फ्रिकवेंसी एबलेशन कैथेटर द्वारा इस नक्शे में चिन्ह अंकित स्थान पर एक लकीर खींच कर इस सर्किट को समाप्त कर आगे होने वाले हार्ट फैलियर से बचाव का इलाज किया गया

वर्ष 2018 से अभी तक लगभग डेढ़ दर्जन तीव्र धड़कन के रोगियों का इलाज एडवांस का डेट इंस्टिट्यूट में रेडियो फ्रिकवेंसी एबलेशन और इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी पद्धति से किया गया है इनमें से ज्यादातर मरीजों का इलाज छत्तीसगढ़ शासन द्वारा लोकहित में चलाई जा रही योजनाएं जैसे श्री खूबचंद बघेल योजना के अंतर्गत किया गया 19 नवंबर 2020 को भर्ती हुए मरीज का इमरजेंसी में इलाज के लिए राज्य नोडल एजेंसी द्वारा कुछ ही घंटों में प्रक्रिया में लगने वाले सामान को प्रदान करने का अनुमोदन संसाधित कर उस मरीज के जीवन की रक्षा की लगातार तेज धड़कन में रहने के कारण इस मरीज का दिल फेल होना शुरू हो गया था

2 दिन चले इस कार्यशाला में कार्डियोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ स्मित श्रीवास्तव, कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर जोगेश एवं डॉक्टर्स सुलभ, निश्चित ना विभाग के विभाग अध्यक्ष डॉक्टर के के सहारे एवं सीटीवीएस से डॉक्टर के के साहू ने मरीजों के इलाज में योगदान दिया ऑपरेशन के पूर्व और बाद की समुचित देखभाल का नेतृत्व सिस्टर शीला और कैथल के अंदर श्री आई पी वर्मा टेक्नीशियन चीफ के द्वारा किया गया

नई 3D इलेक्ट्रोफिजियोलॉजी मशीन और आधुनिक रेडियो फ्रिकवेंसी एबलेशन के द्वारा इलाज करने की एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट में उपलब्धता से छत्तीसगढ़ और आसपास के क्षेत्रों के लोगों को उचित इलाज अब निरंतर उपलब्ध रहेगा पूर्व में इस मशीन को नई दिल्ली से कुछ समय के लिए मंगाया जाता था किंतु अब आधुनिक यूपी लाइव के एडवांस का डेट इंस्टिट्यूट में स्थापित होने से यह सुविधा मरीजों को निरंतर जरूरत के समय उपलब्ध रहे

Spread the love