npg
Exclusive

चपरासी ने पहले कलेक्टर पर लगाया पिटने का आरोप और फिर लिया यू-टर्न, पढ़िए क्या है मामला

चपरासी ने पहले कलेक्टर पर लगाया पिटने का आरोप और फिर लिया यू-टर्न, पढ़िए क्या है मामला
X

बलरामपुर,12 जनवरी 2022। दोपहर से चल रहा हाई प्रोफ़ाइल ड्रामा जिस नाटकीय अंदाज में शुरु हुआ, कमोबेश उसी नाटकीय अंदाज में समाप्त भी हो गया। दोपहर को एक वीडियो और पत्र सोशल मीडिया में वायरल हुआ। वीडियो में कलेक्टर IAS कुंदन कुमार पर जातिगत गालीगलौच करने और मारपीट का आरोप लगाया गया। आरोप लगाने वाले की पहचान कलेक्टर बंगले में पदस्थ भृत्य शिवनारायण राम के रुप में हुई। वीडियो के साथ एक पत्र भी वायरल हुआ जिसे मुख्यमंत्री को संबोधित कर लिखा गया था जिसमें कलेक्टर कुंदन कुमार के विरुध्द कार्यवाही की माँग की गई थी। लेकिन शाम होने के कुछ पहले वही भृत्य मीडिया के सामने हाज़िर हुआ और उसने पूरे मसले को ग़लत करार देते हुए कह दिया कि उसे लोगों ने भड़काया था।

अक्सर अप्रिय वजहों से चर्चाओं में रहने वाले बलरामपुर ज़िले में बीते दो दिनों से एक ख़बर अफ़वाह की तरह उड़ रही थी कि किसी भृत्य ने कलेक्टर पर मारपीट का आरोप लगाया है। इसे मीडिया तक पहुँचाने वाले ज़िला कलेक्ट्रेट में पदस्थ कुछ चिर परिचित कर्मचारी अधिकारी ही थे। दो दिनों तक यह मामला केवल सूगबूगाहट तक रहा,दोपहर को वीडियो वायरल हुआ जिसमें भृत्य शिवनारायण राम ने कलेक्टर पर जातिगत गाली गलौज करने और चार पाँच थप्पड़ जड़ने का आरोप लगा दिया। जबकि यह वीडियो वायरल हुआ भृत्य शिवनारायण राम नदारद था। वीडियो में बताई गई बात की तस्दीक़ के लिए मीडियाकर्मियों ने चपरासी को खोजना शुरु किया जो कलेक्ट्रेट में कुछ ही देर में मिल भी गया, और वहाँ उसने पूरी घटना को ही ख़ारिज कर दिया। चपरासी शिवनारायण राम ने कह दिया.. मुझे भड़काया गया था..मेरे साथ कोई घटना नहीं घटी.. मेरे साथ कोई मारपीट नहीं हुई

इस मामले को लेकर राजनैतिक दलों और कतिपय संगठनों की सक्रियता भी देखने लायक़ थी।लेकिन इसके पहले कि हाईप्रोफ़ाइल यह ड्रामा कोई रंग ला पाता, एकाकी अभिनय पर टिके आर्टिस्ट के डॉयलॉग बदल लेने से मामला टाँय टाँय फ़ुस्स हो गया।

इस पूरे मामले को लेकर जो मसला समझ आता है वह कुछ ऐसा है कि कलेक्टर IAS कुंदन कुमार ने भृ्त्य को डाँटा तो था लेकिन जबकि यह मामला बंगले से बाहर पहुँचा तो कलेक्टर से चिढ़े बैठे कुछ विभागीय लोगों ने ही इसे जातिगत गाली और मारपीट के आरोप में तब्दील कर दिया, मामले को लेकर वीडियो भी तैयार हो गया लेकिन इसके पहले कि उसे ढंग से वायरल कर पाते, भृत्य शिवनारायण राम ने यू टर्न ले लिया और स्वीकार लिया कि उसे भड़काया गया है।

इधर कलेक्टर IAS कुंदन कुमार ने कहा है... क्यों आरोप लगाए गए मुझे वो नहीं पता मुझे यह पता है कि कोई ऐसी घटना ही नहीं हुई कि ऐसे आरोप लगाए जाएँ..मैं शिवनारायण को जानता हूँ वे बेहतर काम करते रहे हैं

Next Story