npg
Exclusive

मोदी की जेब में लोगों का पैसा: महंगाई के विरोध में कांग्रेस का राजभवन घेराव, सीएम बोले- आम आदमी का घर चलाना मुश्किल

अंबेडकर चौक पर सीएम भूपेश बघेल, पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम के साथ जुटे प्रदेशभर के पदाधिकारी और कार्यकर्ता।

मोदी की जेब में लोगों का पैसा: महंगाई के विरोध में कांग्रेस का राजभवन घेराव, सीएम बोले- आम आदमी का घर चलाना मुश्किल
X

रायपुर। महंगाई के विरोध में कांग्रेस ने शुक्रवार को धरना प्रदर्शन कर राजभवन का घेराव किया। इसके बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के नाम राज्यपाल अनुसुइया उइके को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ गए तो ट्रांसपोर्टेशन का भी दाम बढ़ जाता है। ट्रैक्टर भी डीजल से चलता है। खेती-किसानी के काम भी महंगे हो गए। कभी 30 पैसा कभी 85 पैसा, इस तरह से रोज पेट्रोल के भाव बढ़ रहे हैं। आम आदमी का घर चलाना मुश्किल हो रहा है।

सीएम ने आगे कहा कि यह जो महंगाई बढ़ रही है, इसका पैसा किसकी जेब से जा रहा है। व्यापारी, गृहणी, किसान-मजदूर यह सब लोग मेहनत कर रहे हैं और मोदी सरकार ने ऐसा सिस्टम बनाया है कि उनकी जेब से पैसा मोदी सरकार के पास चला जा रहा है।

भूतपूर्व होने के बाद होगी नौजवानों की शादी

अग्निपथ योजना पर सीएम बघेल ने कहा नौजवानों को रोजगार नहीं मिल रहा है। अब तो अग्निपथ स्कीम आ गई है। 4 साल में आप सेना से रिटायर हो जाओगे। 17 साल में भर्ती हुई। 21 साल में रिटायर और 22 साल में भूतपूर्व सैनिक का टैग लग जाएगा। भूतपूर्व लोग नाती पोते की शादी करवाते हैं। मोदी ने व्यवस्था ऐसी कर दी है कि भूतपूर्व होने के बाद आपकी शादी होगी।


उद्योगतियों के लाखों करोड़ माफ हो गए

सीएम ने पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह के अलावा देश के कारोबारी घरानों पर भी इशारों इशारों में सियासी प्रहार किया। उन्होंने कहा, केंद्र सरकार ने पेट्रोल डीजल के दाम बढ़ाकर 28 लाख करोड़ रुपए वसूल कर लिए। उद्योगपतियों का लाखों करोड़ रुपए माफ किया जा रहा है। जितने एयरपोर्ट हैं सब बिक गए हैं। कौन खरीद रहा बताने की जरूरत नहीं है, हम दो हमारे दो।


खजाने का पैसा किसानों के खाते में

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस सरकार के कामों के बारे में बताते हुए सीएम बोले कि यह सरकार राहुल गांधी के निर्देश पर कांग्रेस के निर्देश पर योजना बना रही है। हमारी सरकार के खजाने का पैसा किसान के खाते में जाना चाहिए। हमने पहल की, 2500 रुपए प्रति क्विंटल धान खरीदी की जाएगी। किसान के खाते में लघु वनोपज की खरीदारी का 4000 प्रति मानक बोरा के हिसाब से पैसा जाएगा। हमारी सरकार में खजाने का पैसा आदिवासी लोगों के खाते में जाएगा।

कांग्रेसी नेताओं ने राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन तैयार किया है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से कांग्रेस अपने इस विरोध प्रदर्शन के जरिए मांग कर रही है कि महंगाई कम करने, खाद्य पदार्थों पर लगे जीएसटी को समाप्त करने और अग्निपथ योजना जैसे योजना वापस ली जाए।

Next Story