npg
Exclusive

DSP की पिटाई: हंगामा कर रहे कांग्रेस नेता के पुत्र को रोकना पुलिस को पड़ा भारी, आरोपी ने दोस्तों के साथ मिलकर DSP को बेदम पीटा...FIR दर्ज

DSP की पिटाई: हंगामा कर रहे कांग्रेस नेता के पुत्र को रोकना पुलिस को पड़ा भारी, आरोपी ने दोस्तों के साथ मिलकर DSP को बेदम पीटा...FIR दर्ज
X

कोंडागांव 14 अक्टूबर 2021। गरबा में विवाद व हंगामा कर रहे युवाओ को रोकना (DSP) एसडीओपी को महंगा पड़ गया है। हंगामा कर रहे युवकों ने एसडीओपी की जमकर पिटाई कर दी है। आरोपी युवकों में मुख्य आरोपी सिद्धार्थ श्रीवास्तव कांग्रेस प्रदेश सचिव मनीष श्रीवास्तव का पुत्र है। पुलिस का आरोप हैं कि सभी युवक घटना के दौरान नशे में थे। पुलिस ने इस मामले में 10 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सभी को गिरफ़्तार किया है।

मामला कोंडागांव के विकास नगर स्थित स्टेडियम का है। बीती रात मैदान में गरबा का आयोजन रखा गया था। इस दौरान करीब 12 बजे पुलिस को हंगामे की सूचना मिली। इस सूचना पर एसडीओपी निमितेश सिंग परिहार मौके पर पहुँचे और हंगामा को शांत कराने की कोशिश करने लगे। तभी नशे में एक युवक ने एसडीओपी से विवाद करते हुए मारपीट शुरू कर दी। विवाद होता देख एसडीओपी का वाहन चालक बीच बचाव करने पहुंचा तो आरोपी ने उसका मोबाईल छीनकर जमीन पर पटक दिया। साथ ही बीच बचाव करने आये डीएसपी नक्सल ऑपरेशन सतीश भार्गव के साथ भी नशे में धुत्त आरोपियों ने हुज्जत की। पुलिस ने इस मामले में शामिल सभी 10 आरोपियो को गिरफ्तार कर लिया है।

इन धाराओं में हुआ है अपराध दर्ज:-

पुलिस ने कोंडागांव कांग्रेस प्रदेश सचिव मनीष श्रीवास्तव के पुत्र सिद्धार्थ श्रीवास्तव, आदित्य माने, गौरव संचेती, अंकित शर्मा, शुभम साहा, नितिन कटियारा, निखिल चौहान, नितिन घोष, कृष्ण कुमार और गौतम गायकवाड़ इन 10 युवाओं के खिलाफ धारा 147,149,186,353,294,506,323,307 IPC, SC/ST एक्ट धारा 3(1)(द)(ध),3(2)(वी क) के तहत मामला दर्ज कर सभी 10 आरोपियो को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें प्रदेश सचिव मनीष श्रीवास्तव को एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता का करीबी कहा जाता है। कांग्रेस नेता मनीष श्रीवास्तव के पुत्र सिद्धार्थ श्रीवास्तव पर पूर्व में भी एक महिला से मारपीट करने के मामले में एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं।

वहीं इस मामले में एसपी कोंडागांव ने कहा, गरबा में हंगामे की सूचना पर हमारी पुलिस टीम पहुँची थी। इस दौरान आरोपियो के द्वारा दुर्व्यवहार व हुज्जत की गई। मामले में आरोपियो को चिन्हित कर के उनके खिलाफ कार्यवाही करते हुए सभी 10 आरोपियो को गिरफ्तार किया गया हैं। सभी के खिलाफ आगे की कार्रवाई की जा रही है।


Next Story