ब्याज में 51 लाख देने के बाद भी 10 लाख का तगादा और मकान देने का दबाव, बना हत्या की वजह….. पुलिस को आरोपी ने बताई पूरी कहानी……. चार गिरफ़्तार एक की तलाश जारी

अंबिकापुर,12 अप्रैल 2020। लॉकडॉउन के दौरान लापता दो नजदीकि रिश्तेदार व्यवसायीयों के लापता होने से उठी सनसनी का समापन हो गया है। पुलिस ने इस बेहद जटिल मामले का आख़िर खुलासा करते हुए चार आरोपियों को पकड़ लिया है, जबकि एक अन्य की तलाश जारी है।
पुलिस को दिए बयान के अनुसार आरोपी वह पड़ोसी ही है जो लापता की तलाश में परिजनों के साथ घूम रहा था, और परिजनों को अलग अलग जगह ले जाते रहा।

पुलिस को प्रमुख आरोपी आकाश गुप्ता ने बताया कि, उसने वर्ष 2016 में सौरभ के पिता से ब्याज पर रक़म ली थी.. जिसका चुकाते हुए वो पचास लाख दे चुका था,और उससे दस लाख की अतिरिक्त माँग की जा रही थी, उसका घर भी देने का दबाव बनाया जा रहा था। उसने ज़मीन बेची थी उसका पैसा भी उसे पूरी तरह नहीं दिया जा रहा था। जिससे वो प्रताड़ित महसूस करने लगा। पुलिस को दी गई जानकारी के मुताबिक़ उसने पहले सौरभ को अपहरित कर फिरौती की योजना बनाई थी, बाद में उसने हत्या की योजना बना ली।
कप्तान आशुतोष सिंह ने बताया –

“हत्या 10 अप्रैल को शाम साढ़े सात बजे हो चुकी थी, सौरभ अपने चचेरे भाई सुनील अग्रवाल के साथ पड़ोसी के यहाँ पहुँचा और शराब पीने लगे.. तब ही पीछे से शूटर ने पहले सुनील पर गोली चलाई, सुनील की तत्काल मौत हो गई.. सौरभ ने भागने की कोशिश की तो उस पर गुप्ती से पड़ोसी ने हमला किया और शूटर ने उसे गोली मार दी.. इन दोनों ने शव को उस गड्डे में डाल दिया जिसे पाँच अप्रैल को ही खोद लिया गया था”

भ्रम में डालने के लिए शूटर ने घर के बाहर खड़ी इनोव्हा को लेकर संगम चौक से बिलासपुर चौक गया और फिर वहाँ से आकाशवाणी चौक के पास स्थित सब्ज़ी मंडी के पास खड़ा कर निकल गया। शूटर फरवरी में ही जेल से छूट कर आया था।
शूटर सिद्धार्थ को हथियार की उपलब्धता के लिए पड़ोसी आकाश गुप्ता ने नब्बे हज़ार दिए थे। हथियार के लिए पहले उदयपुर स्थित रमेश अग्रवाल नामक व्यक्ति से संपर्क किया जिसने बरगीडीह स्थित शिव पटेल से मिलाया और शिव ने हथियार दिया जो कि तमंचा था।
पुलिस की गिरफ़्त में शूटर सिद्धार्थ पड़ोसी आकाश गुप्ता और हथियार उपलब्ध कराने वाली कड़ी से जूड़े दोनों आरोपी रमेश अग्रवाल और शिव पटेल हिरासत में है। जबकि बरगीडीह वाले आरोपी को जहां से हथियार आता था उसकी तलाश जारी है।

Spread the love