npg
मनोरंजन

'मैं बिकनी गर्ल नहीं थी, मुझे बना दिया गया... Congress उम्मीदवार अर्चना गौतम बोली- हेमा मालिनी-रवि किशन....

मैं बिकनी गर्ल नहीं थी, मुझे बना दिया गया...  Congress उम्मीदवार अर्चना गौतम बोली- हेमा मालिनी-रवि किशन....
X

मुंबई 23 जनवरी 2022. मेरठ के हस्तिनापुर सुरक्षित सीट से कांग्रेस उम्मीदवार अर्चना गौतम इन दिनों काफी चर्चा में है. वह सोशल मीडिया की सुर्खियों में भी है. कोई उन्हें बिकिनी गर्ल बताकर ट्रोल कर रहा है तो कोई उनकी फोटो पोस्ट कर रहा है. इसके बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने अर्चना के बचाव में आईं और विरोध कर रहे लोगों को आड़े हाथों लिया. प्रियंका गांधी के बयान पर अर्चना गौतम का कहना है कि उन्होंने (प्रियंका गांधी) उनका नहीं बल्कि हर उस महिला का बचाव किया है जो देश के लिए लड़ना चाहती है, आगे बढ़ना चाहती है और अपनी आवाज उठाना चाहती है, उन्होंने उस महिला को मजबूत बनाया है जो महिलाएं घरों तक सीमित रही हैं. जो अपने ख्वाबों को पूरा नहीं कर पा रही हैं.

जब मैं राजनीति में आई तो मुझे नहीं पता था कि मेरा पिछला काम इतना बड़ा मुद्दा बन जाएगा. अब जब यह मुद्दा बनाया गया है, तो मैं समाज के वर्तमान विचार प्रतिक्रिया को देख रही हूं. अगर मेरे केस मे ये बड़ा मुद्दा है तो, जो महिलाएं छोटे कपड़े पहनती हैं, शायद एक ग्रामीण लड़की जो छोटे कपड़े या कैपरी, या जींस पहनना चाहती है, उसे तो समाज जिवित ही नहीं रहने देगा. अगर मेरे साथ ऐसा हो रहा है तो दूसरी महिलाओं के साथ भी ऐसा हो सकता है. मैं जानना चाहती हूं कि एक तरफ जब भारत बहुत आगे बढ़ गया है, भारतीय आगे बढ़ गए हैं तो लोगों की सोच आगे क्यों नहीं बढ़ रही है आप केवल कांग्रेस का समर्थन क्यों कर रहे हैं? मैं कांग्रेस का समर्थन कर रही हूं क्योंकि जिस तरह से प्रियंका दीदी महिला सशक्तिकरण की दिशा में काम कर रही हैं, उन्होंने जो मुद्दे उठाए हैं, आपको भी पता होगा कि वह 40% टिकट दे रही हैं इसलिए मुझे लगता है कि वह युवाओं और महिलाओं के बारे में सोच रही हैं और उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रही हैं. बॉम्बे से मेरठ का सफर, बॉलीवुड से उम्मीदवारी तक, क्या है सबसे बड़ी चुनौती? मुंबई का सफर भी बहुत अच्छा रहा और सच कहूं तो मैंने वहां बहुत ज्यादा संघर्ष किया है. वहां मैंने जिस तरह की चुनौतियों का सामना किया है, उसने सोचने पर मजबूर कर दिया है कि हमें इतना स्ट्रगल क्यों करना पड़ता है. मैंने सोचा कि जब मेरा काम पूरा हो जाएगा, और मैं इससे पार हो गया हूं तो यह मेरे लिए कुछ भी नहीं है. इसके लिए मुझे लड़ना है और आगे बढ़ना है.

मैं एक महिला हूं और मैं लड़ सकती हूं- यह पार्टी का नारा है लेकिन मेरठ में एक महिला होने के नाते आपको अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से भी उम्मीदवारी के लिए चुनौतियों का सामना करना पड़ा क्योंकि ब्रांडिंग आपके साथ आती है. मेरे कार्यकर्ता मेरे समर्थन में हैं. देखिए मुझे लगता है कि टिकट सभी चाहते हैं और कुछ लोगों को टिकट नहीं मिलता इसलिए वे भी दुखी थे लेकिन लोग अब मेरे साथ हैं और वे कह रहे हैं कि अर्चना ठीक है तुम लड़ो और हम तुम्हारे साथ हैं इसलिए पार्टी मेरा बहुत समर्थन कर रही है. मुझे कार्यकर्ताओं का समर्थन मिल रहा है और मेरे सभी कांग्रेसी भाई-बहन भी मेरा समर्थन कर रहे हैं. आपको बिकिनी गर्ल के नाम से पुकारा जा रहा है, इसे कैसे देखते हैं? मैं बिकनी गर्ल नहीं थी, उन्होंने मुझे बना दिया और नाम मेरे साथ जुड़ गया जो गलत है क्योंकि आप किसी लड़की के चरित्र को उसके नाम से नहीं जोड़ सकते. खासकर वह नाम जो आपने दिया है. यह गलत है और ऐसा नहीं होना चाहिए था. उदाहरण के लिए मैं 2018 में मिस बिकिनी इंडिया बनी और 2014 में मैं मिस यूपी बनी. और 2018 मैं मिस कॉस्मो वर्ल्ड थी इसलिए मैंने कुछ अतिरिक्त नहीं किया. दूसरों ने जो किया है वही मैंने किया है तो उस चीज़ ने मुझे बिकनी गर्ल का टैग दिया गया जो गलत है और ऐसा नहीं होना चाहिए था. मेरा नाम अर्चना गौतम है इसलिए मुझे उसी नाम से बुलाओ.

आप अपना पेशा बदलते हैं और तो चाहते हैं कि लोग आपको नए काम से जाने ऐसे आपका पुराना काम वायरल होना कैसा महसूस कराता है? शुरुआत में सोशल मीडिया पर लोग मुझे गालियां देते थे और बहुत सी चीजें हुई हैं. इसके अलावा मेरे पुराने पेशे का गलत इस्तेमाल किया गया है लेकिन यहां के लोग और मैं इसके खिलाफ कार्रवाई भी कर सकती थी. लेकिन मैं इस बात को आगे नहीं बढ़ाना चाहती थी, ऐसा इसलिए क्योंकि जब कोई लड़की कुछ कहती है तो दुनिया उसे समझ नहीं पाती है और उन्हें लगता है कि वे इसे प्रचार के लिए करते हैं. और मैं उस मोहर को प्रोत्साहित नहीं करना चाहती. उन्होंने कहा कि जब मैं जीतकर लोगों के लिए लड़ूंगी, तो ये बातें अपन आप ही बंद हो जाएगी. अगर आप एक व्यक्ति का मुंह बंद कर देंगे तो 70 से अधिक लोग बातें कहने के लिए आगे आएंगे. इसलिए काम करना और चीजों को साबित करना बेहतर है. अपने खिलाफ अन्य पार्टियों के प्रत्याशियों को कैसे देखती हैं आप पोशाक पर लोगों की प्रतिक्रिया देखकर कभी लगा की ये काम नहीं करना चाहिए था? सबसे पहले मैं अपना अतीत साझा करना चाहूंगी. मैं एक गरीब परिवार से थी इसलिए मैंने गायों से दूध निकाला है और उपले भी बनाए हैं और घोसा भी बनाया है. मैं उनसे कहना चाहूंगी कि मैं एक अभिनेता होने के साथ-साथ एक गांव की लड़की भी हूं और मैं अपनी संस्कृति को नहीं भूलती और अगर लोग मेरे कपड़ों के बारे में कहते हैं, तो यह भी एक तरह की पोशाक है, अभिनय का एक माध्यम है जो मैंने किया है. यह कई हीरोइनों ने भी किया था, चाहे वह स्मृति ईरानी हों, हेमा मालिनी हों, इसलिए मैंने भी किया है इसलिए मुझे लगता है कि वे इसे गलत तरीके से ले रहे हैं और इसे गलत दिशा में ले जा रहे हैं. ग्लैमर की दुनिया से बहुत सारे लोग राजनीति में आते हैं लेकिन यहां रहना मुश्किल है तो उसके लिए क्या तैयारी है. अगर आप जीतते हैं या हारते हैं तो आपका अगला कदम क्या होगा? राजनीति छोड़ोगे या नहीं? मैंने हारने के बारे में नहीं सोचा है. अब तक मैं हमेशा जीतती आई हूं. मैं हस्तिनापुर की बेटी हूं और यहीं पैदा हुई थी इसलिए मुझे लगता है कि हस्तिनापुर के लोग, मेरा हस्तिनापुर का परिवार मुझे खुद को साबित करने का एक मौका तो जरूर देंगे.

Next Story