VIDEO : इंस्पेक्शन के लिए पहुंची कलेक्टर डाक्टरों की इन हरकत पर रह गयी दंग….. तड़पते-बिलखते मरीजों को लाइन में घंटों खड़ेकर करते रहे गप्पबाजी…. पूछा, तो झांकने लगे बगले….मौके पर ही सिविल सर्जन को लगी फटकार…पावर सीज

कोरबा 23 मार्च 2020। कोरोना के भयावह हालात के बीच डाक्टरों को भगवान बनाकर पूरी दुनिया नमन कर रही है…और दूसरी तरफ कोरबा में डाक्टर अपने पेशे को बदनाम करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे। मामला कोरबा के जिला अस्पताल में आज सुबह का है, जहां इलाज के लिए तड़पते-बिलखते मरीज कतार में घंटों खड़े रहे और दूसरे कमरे में सभी डाक्टर चाय की चुस्की के बीच गप्पे लड़ाते रहे।

कई दफा मरीजों ने जब डाक्टरों के आने का वक्त जानना चाहा, तो उन्हें ये कहकर चुप करा दिया गया…कि देखते नहीं साहब लोग मीटिंग में व्यस्त हैं। इधर जब सूचना पर अचानक कलेक्टर किरण कौशल मौके पर पहुंची सिविल सर्जन पर उनका गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने मौके पर ही सिविल सर्जन कड़ी फटकार लगायी और लापरवाही को गंभीरता से लेते हुए सभी प्रशासनिक अधिकार वापस लेते हुए CMHO को चार्ज देने को कहा, वहीं एसडीएम को जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करने के निर्देश दिये।

कमाल की बात तो ये रही कि जब पूरी दुनिया में कोरोना को सबसे खतरनाक बीमारी मानकर तत्काल इलाज के निर्देश जारी किये गये हैं…मरीजों की भीड़ इक्ट्ठा ना हो, इसलिए गाइडलाइन के मुताबिक तत्काल इलाज के लिए कहा गया है, वैसे हालात में दर्जनों मरीज की भीड़ एक जगह पर इक्ट्ठा होकर डाक्टर के आने का इंतजार घंटों से कर रही थी। हद तो ये थी कि डाक्टरों के साथ दूसरे कमरे में खुद सिविल सर्जन भी बैठे थे, जिनके जिम्मे जिले की पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था होती है।

इधर कलेक्टर किरण कौशल जब अचानक जिला अस्पताल पहुंची, तो वहां का नजारा देखकर खुद दंग रह गयी। मरीजों की भारी भीड़ के बीच डाक्टर अपने चैंबर से गायब थे। मरीजों से पूछने पर पता चला कि घंटे भर से ज्यादा से वो इंतजार कर रहे हैं। इधर कलेक्टर मैडम के आने की खबर पर डाक्टरों के हाथ-पांव फूल गये। आनन-फानन में  डाक्टर गिरते-भागते कलेक्टर के पास पहुंचे और सफाई देने के लगे कि वो मीटिंग कर रहे थे। हालांकि मीटिंग को लेकर पूछने पर सब बगले झांकने लगे।

 

Spread the love