शिक्षकों की भी कोरोना को लेकर लगायी गयी ड्यूटी :.. संदेही मरीजों के घर के आसपास जाकर करेंगे लोगों की रिपोर्ट तैयार…….राज्य सरकार के निर्देश पर स्वास्थ्य व महिला बाल विकास विभाग और शिक्षा विभाग की बनायी गयी टीम ….सहायक शिक्षक फेडरेशन ने इमरजेंसी ड्यूटी में तैनात शिक्षकों के लिए मांगा 50 लाख का बीमा

रायपुर 27 मार्च 2020। कोरोना के खिलाफ जंग में अब शिक्षक भी मैदान में उतरेंगे। कोरोना प्रभावितों की जानकारी इकट्ठा करने के लिए राज्य सरकार की तरफ से जो टीम गठित करने का निर्देश दिया गया है, उनमें एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और शिक्षक शामिल हैं। स्वास्थ्य, महिला बाल विकास और शिक्षा विभाग की ज्वाइंट टीम कोरोना प्रभावित इलाकों में जाकर रिपोर्ट तैयार करेंगे।

दरअसल प्रदेश में कोरोना संदेह के मद्देनजर कई लोगों को होम आइसोलेशन और क्वांरटाइन में रखा गया है। ऐसे में चिन्हित घरों के आसपास के 50 घरों में टीमें जायेगी और जानकारी इकट्ठा करेगी। इस दौरान ये टीम कोरोना से बचाव और सतर्कता को लेकर जानकारी भी देगी। राज्य सरकार की तरफ से जारी निर्देश के बाद जिला पंचायत की तरफ से राजधानी रायपुर सहित अन्य जिलों में तीन-तीन लोगों की टीम बना दी है। इस टीम में एक एएनएम, एक शिक्षक और एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रहेगी।

इन शिक्षकों को भी मिले 50 लाख का बीमा कवर

कोरोना के खिलाफ अभियान में शिक्षकों की भी ड्यूटी लगायी गयी है, ऐसे में शिक्षकों ने 50 लाख रुपये बीमा की मांग की है। सहायक शिक्षक फेडरेशन के प्रांतीय नेता शिव सारथी ने कहा है कि कोरोना के मद्देनजर लगायी गयी शिक्षकों की ड्यूटी भी जोखिम से भरी है, ऐसे में शिक्षकों को भी उस जोखिम बीमा का लाभ मिलना चाहिये, जो केंद्र सरकार की तरफ से ऐलान किया गया है। उन्होंने कहा कि शिक्षक समाज का जागरूक व कर्मठ है जो स्कूलों में अध्ययन-अध्यापन के अलावा केंद्र व राज्य सरकार के हर महत्वपूर्ण राष्ट्रीय प्रोग्राम को सफलता पूर्वक सम्पन्न करता रहा है। कोरोना जैसी वैश्विक आपदा के समय राज्य शासन ने शिक्षकों को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। इसके बदले केन्द्र सरकार के द्वारा जारी 50 लाख की करोंना महामारी रिस्क बीमा कवर करने की मांग की है। ताकि शिक्षको के साथ अन्य विभाग के कर्मचारी निर्भीक होकर अपने कार्य को अंजाम दे सके तथा विश्व आपदा कोरोना महामारी के संकट के समय अपने कर्तव्य निर्वाह को बिना संकोच/हिचकिचाहट के कर सकें।
ज्ञात हो कि इस महामारी के नियंत्रण व रोकथाम में कार्य कर रहे स्वाथ्य विभाग,पुलिस विभाग आशा कार्यकर्ता के लिए केन्द्र सरकार ने 50 लाख का बीमा रिस्क कवर का प्रवधान किया हैं ताकि बीमारी से लड़ते हुए प्रभावित होने पर इसका लाभ उन्हें मिल सके। यही लाभ इन चिन्हाकित कर्मचारियों के अलावा शिक्षको सहित अन्य विभाग के शासकीय कर्मचारियों के लिए भी केंद्र व राज्य शासन से माँग फेडरेशन ने किया है इसके लिये माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा आवश्यक पहल करने की अपील शिव सारथी ने किया है जिस पर शीघ्र अमल किया जाने की आशा व्यक्त किया है।

 

Spread the love