हाथी प्रभावित क्षेत्र में रात के वक्त कलेक्टर ने डाला डेरा, खौफ के बीच लेती रही मतदान और काउंटिंग का जाएजा 

 विजय कुमार newpowergame.com

कोरबा 31 जनवरी 2020। प्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव का आज दूसरे चरण का मतदान छिट-पुट घटनाओं के साथ देर शाम तक चलता रहा। लेकिन कोरबा जिले के पोड़ी-उपरोड़ा विकासखंड में कई मतदान केंद्र ऐसे है, जहां जंगली हाथियों का खतरा होने के बाद भी मतदाता और मतदान कर्मी अपनी जान को जोखिम में डालकर इस चुनाव को संपन्न करवाते नजर आये। बात करे हाथियों के आतंक की तो क्षेत्र में 43 हाथियों का दल गांव और मतदान केंद्र से महज 500 मीटर की दूरी पर विचरण कर रहे है और एक दिन पहले ही दंतैल ने गुरूवार की रात वनांचल ग्राम परला में मकान तोड़ने के दौरान एक ग्रामीण को कूचलकर मार डाला।

ऐसे में हाथियों के दहशत के बीच मतदाता और मतदान कर्मियों को मनोबल बढ़ाने खुद कोरबा कलेक्टर किरण कौशल ने हाथी प्रभावित मतदान केंद्रो का दौरा कर इस क्षेत्र में डेरा डाल दिया है। संवेदनशील मतदान क्षेत्र होने के बावजूद कलेक्टर किरण कौशल ने जहां रात तक हाथी प्रभावित मतदान केद्रो में रूक कर मतदान कर्मियों को निष्पक्ष तरीके से मतो की गणना करने की बात कहते हुए मतगणना स्थल पर पुख्ता सुरक्षा के इंतजाम करने का निर्देश देती दिखी। वही हाथी के दहशत के साये में जीने को मजबूर ग्रामीणों से मुलाकात कर उन्हे पर्याप्त सुरक्षा के साजो सामान मुहैयया कराने का निर्देश वन विभाग की टीम को दिया गया। गौरतलब है कि कटघोरा वन मंडल के ऐतमा नगर और केंद्रई रेंज पिछले डेढ़ महीने से हाथियों के आतंक से ग्रामीण दहशत के साये में जीने को मजबूर है।

आलम ये है कि ग्रामीण अपने घरो में सोने के बजाये मकान के छत पर कपड़े का तंबू लगाकर कड़कड़ाती ठंड में खुले आसमान के नीचे हाथियों के आतंक से बचने के लिए परिवार सहित सोने को मजबूर है। लिहाजा हाथियों के इस आतंक की जानकारी के बाद कोरबा कलेक्टर किरण कौशल ने हाथी प्रभावित क्षेत्र में दिनभर डेरा डालने के साथ ही देर रात तक हाथी प्रभावित ग्राम पंचायत और मतदान केंद्र जटगा, दमाउकुंडा, सलिहाभाठा, सहित धुमानीडांड,पचरा सहित कसनियाका का दौरा कर मौके के हालात जानी।

क्षेत्र में भयभीत ग्रामीणों की सुरक्षा के लिए कलेक्टर किरण कौशल जहां ने सभी हाथी प्रभावित ग्राम पंचायतों में 25-25 बड़े टार्च देने के साथ ही 25-25 सेफटी जैकेट तत्काल देने के निर्देश एसडीएम को दिये, वहीं वन विभाग की टीम को ग्रामीण क्षेत्र के साथ ही हाथियों के मूवमेंट पर सतत नगरानी रखने के निर्देश दिये है। कलेक्टर ने वन विभाग की उड़नदस्ता टीम को गांव की ओर बढ़ने वाले हाथियों को फौरन क्षेत्र से बाहर खदेड़ने के लिए क्वीक एक्शन टीम बनाने के भी निर्देश कलेक्टर किरण कौशल ने दिये है, ताकि ग्रामीणों की जान के साथ ही उनकी फसल बचाई जा सके।

Spread the love