npg
विविध

देखें विडियो: कैदी को किस करते पकड़ी गई महिला जज... Video आया सामने, जानिए आखिर क्या है पूरा मामला

देखें विडियो: कैदी को किस करते पकड़ी गई महिला जज... Video आया सामने, जानिए आखिर क्या है पूरा मामला
X

नईदिल्ली 13 जनवरी 2022 I कैदी से मिलने के लिए गई जज ने एक ऐसा काम किया, जिसे देखने के बाद आप भी हैरान रह जाएंगे कि आखिर ये क्या था. जी हां, उम्रकैद से बचने के लिए कैदी ने लिया जज का सहारा. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है एक पुलिस अधिकारी की हत्या के लिए दोषी ठहराए गए एक कैदी को चूमते हुए कैमरे में कैद होने के बाद अर्जेंटीना की एक न्यायाधीश बुरी तरह फंस गई. दक्षिणी चुबुत प्रांत में मौजूद एक न्यायाधीश मारियल सुआरेज़ (Mariel Suarez) को बीते महीने 29 दिसंबर 2021 को जेल में क्रिस्टियन 'माई' बस्टोस नाम के कैदी को चूमते हुए फिल्माया गया. डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, यह वही अपराधी था जिसे मारियल ने एक हफ्ते पहले सुनवाई के दौरान उम्रकैद की सजा से बचाने की कोशिश की थी. अब उनका यह इंटिमेट मोमेंट वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.

लैटिन अमेरिकी देश आर्जेंटीना में एक महिला जज उस समय फंस गई जब उसे एक कैदी को किस करते हुए कैमरे में कैद कर लिया गया। इस कैदी को देश के दक्षिणी चूबूट प्रांत में एक पुलिसकर्मी की हत्‍या का दोषी पाया गया था। यह वही महिला जज मरिएल सुअरेज हैं जिसने एक हफ्ते पहले ही कैदी क्रिस्चियन 'मै' बूस्‍टोस की आजीवन कारावास की सजा को कम करने का प्रयास किया था। मरिएल को गत 29 दिसंबर को जेल के अंदर कैदी को किस करते हुए पकड़ा गया। इस घटना का वीडियो अब सोशल मीडिया में काफी शेयर किया जा रहा है। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक मरिएल जजों के उस दल का हिस्‍सा थीं जिसने कैदी बूस्‍टोस को पुलिसकर्मी लिअनार्डो टिटो राबर्ट्स की साल 2009 में हत्‍या किए जाने के मामले में आजीवन कारावास दिए जाने के फैसले पर सुनवाई कर रहा जज मरिएल दल में एकमात्र ऐसी जज थीं

जिसने बूस्‍टोस को आजीवन कारावास दिए जाने के फैसले के खिलाफ वोट दिया था। वह भी तब जब उन्‍हें यह बताया गया था कि बूस्‍टोस एक बेहद खतरनाक कैदी है। मरिएल का बूस्‍टोस को बचाने का प्रयास व्‍यर्थ गया और अब आजीवन जेल में चक्‍की पीसनी पड़ेगी। यह सजा अब पिछले सप्‍ताह ही शुरू हो गई है। उधर, इस मामले पर अब मरिएल ने सफाई दी है। मरिएल ने कहा, 'ऐसा पहली बार था जब मैंने उसे देखा था और हमने सजा के बारे में बात की। मैं उससे टकरा गई थी और उसे बताया था कि उसके साथ एक इंटरव्‍यू की व्‍यवस्‍था करने जा रही हैं। मैंने यह भी बताया कि मैं एक किताब लिखने जा रही हूं।' उन्‍होंने यह भी कहा कि उनका कैदी के साथ कोई भावनात्‍मक रिश्‍ता नहीं है। मैं इसलिए कैदी से मिलने गई थी क्‍योंकि मैं इस केस के बारे में एक किताब लिख रही हूं। इस बीच चूबूत प्रांत के अधिकारियों ने महिला जज के इस कथित अनुचित व्‍यवहार के लिए उनके खिलाफ अनुशासनात्‍मक कार्रवाई को शुरू कर दिया है।

Next Story