NPG से बोले देवव्रत सिंह – “जोगीजी के बाद दल का भविष्य फ़िलहाल नहीं दिखता.. दल बदल का मसला है, और कांग्रेस की सहमति का भी..वर्ना मेरे समेत दो विधायक तैयार”

रायपुर,28 अक्टूबर 2020। खैरागढ़ से छजका विधायक देवव्रत सिंह ने NPG से चर्चा में यह स्वीकारा है कि, यदि परिस्थितियां अनुकूल और विधिसम्मत रही और यदि कॉंग्रेस की सहमति मिली तो निश्चित तौर पर उनके समेत दो विधायक कांग्रेस में शामिल होना चाहेंगे।छजकां से मौजुदा समय में विधायक देवव्रत सिंह को अजीत जोगी के निधन के बाद इस दल में नेतृत्व का ख़ालीपन भी सता रहा है। देवव्रत सिंह की यह धारणा है कि अब इस दल का भविष्य फ़िलहाल नहीं है, क्योंकि अब अजीत जोगी नहीं हैं।देवव्रत सिंह का यह भी दावा है कि, जोगी के अंतिम समय में यह बेहद मज़बूत प्रयास हुआ था कि उनका कांग्रेस प्रवेश हो जाए, जिसे लेकर तब अंतिम निर्णय नहीं हो पाया क्योंकि जोगी कोमा में थे और यह मसला अटक गया।
देवव्रत सिंह ने NPG से कहा

“मेरा मंशा कोई पूछेगा तो निश्चित तौर पर कांग्रेस में हमारा भविष्य हमें दिखता है.. लेकिन दल बदल क़ानून है जिसमें न्यूनतम तीन विधायक होना जरुरी है.. मैं और प्रमोद शर्मा तैयार हैं लेकिन तीसरा कौन यह बात तो केवल जय सिंह ही बता पाएँगे, और सबसे अहम सवाल यह भी है कि हमें प्रवेश मिले यह तो कांग्रेस तय करेगी..”

खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह ने कहा –
“मैं यह स्पष्ट मानता हूँ कि, अजीत जोगी के व्यक्तित्व के मुक़ाबले कोई भी अब इस दल में फ़िलहाल नहीं है.. मैं दल को लेकर नहीं कह सकता कि, उसका क्या होगा नहीं होगा”

देवव्रत सिंह ने दावा किया

“मेरी जानकारी में जबकि अजीत जोगी बेहद गंभीर थे, तब बेहद गंभीर प्रयास किए गए थे कि उनका कांग्रेस प्रवेश हो जाए.. यह बात दिल्ली से वापस रायपुर आई और विमर्श के बाद दिल्ली सूचना भेजी गई कि अभी जोगी कोमा में है, और ऐसे में कोई निर्णय नहीं हो सकता.. मुझे यह भी ध्यान है कि जोगी जी के निधन के बाद अहमद पटेल से रेणु जोगी की मुलाक़ात हुई थी.. और कांग्रेस प्रवेश की चर्चा तब भी हुई थी”

देवव्रत सिंह की बात से यह स्पष्ट है कि, मंत्री जय सिंह की बात कोई राजनैतिक शिगूफ़ा नहीं था, पर तीसरा कौन इस पर नज़र फिराने के दौरान यह भी ध्यान रखिए कि, देवव्रत सिंह ने NPG से बातचीत में छजका विधायक दल के नेता धर्मजीत सिंह के उस बयान पर आश्चर्य जताया है जिसमें कि उन्होंने छजका विधायकों के प्रवेश वाले बयान पर नाम बताने की चुनौती दी है।

Spread the love