छुट्टी के बावजूद स्वास्थ्य मिशन की एमडी डॉ प्रियंका ने किया नक्सल प्रभावित जिलों का दौरा…. 12 दिनों में लगातार 12 जिलों में कोरोना के मद्देनजर ले चुकी हैं हालात का जायजा

रायपुर 26 अप्रैल 2020। कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में एक तरफ जहां स्वास्थ्यकर्मी दिन-रात एक किये हुए हैं…तो दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग के अफसर भी छुट्टी और त्योहार की परवाह नहीं कर रहे हैं….रविवार की छुट्टी के बावजूद राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की एमडी डॉ प्रियंका शुक्ला ने जिलों का धुंधाधार दौरा किया और कोरोना के हालात की समीक्षा के साथ-साथ कोविड-19  अस्पतालों का निरीक्षण किया। इस दौरान जिलों के अधिकारियों के साथ बातचीत और स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को लगातार दिशा-निर्देश भी दिया। IAS डॉ प्रियंका के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पिछले 12 दिनों में 12 जिलों का दौरा किया है। सवास्थ्य विभाग की इस राज्य स्तरीय टीम में डॉ. भीमराव अंबेडकर चिकित्सा महाविद्यालय रायपुर के अधीक्षक डॉ. विनीत जैन, पल्मनोलॉजिस्ट डॉ. रविंद्र पाण्डा, एनेस्थीसीया विशेषज्ञ डॉ.ओपी सुंदरानी, राज्य कार्यक्रम प्रबंधक उरया नाग और ओएसडी डॉ.अभ्युदय तिवारी शामिल हैं।

इसी कड़ी में डॉ प्रियंका शुक्ला ने आज अपनी टीम के साथ बीजापुर और दंतेवाड़ा जिले के गीदम में कोविड-19 की रोकथाम और बचाव के लिए विशेष रूप से निर्मित अस्पताल का निरीक्षण किया । उल्लेखनीय है कि कोविड 19 के इलाज एवं रोकथाम के लिए गीदम और बीजापुर में 100 बिस्तर अस्पताल का निर्माण किया जा रहा है ताकि आदिवासी अंचल के लोगों को बेहतर इलाज मिल सके। डॉ शुक्ला और उनकी टीम ने तैयारियों का बारीकी से निरीक्षण किया ताकि कोई चूक न रह जाए। निरीक्षण दौरान उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा की गई तैयारियों और व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया।

सोशल डिस्टेंसिंग पर दिया ज़ोर

एनएचएम ने अस्पताल के सभी कमरों और वार्डों में सोशल डिस्टेंसिंग पर विशेष फ़ोकस रखने के निर्देश दिए।निरीक्षण के दौरान एमडी डॉ. शुक्ला ने बीजापुर और गीदम में अस्पताल के कमरों में बिस्तरों को पर्याप्त दूरी सुनिश्चित करने पर ज़ोर दिया।उन्होंने पूरे अस्पताल में मोबाइल एक्स-रे को तैयार रखने ,ऑक्सीजन सिलेंडर की सुविधा और मॉनिटर के इंतजाम करने को कहा। उन्होंने पूरे परिसर में में साफ सफाई रखने के निर्देश भी दिए।

कोरोना पॉजिटिव को सुरक्षा चक्र में रखने हेतु बरतें पूरी सावधानी

डॉ शुक्ला ने कहा कि यदि क्षेत्र में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलता है तो उसको सुरक्षा चक्र में रखने के दौरान विशेष रूप से सावधानी बरते ताकि संक्रमण को फैलने से रोक जा सके।इसके अलावा मरीज के परिवार और आस पास के लोगों को अनावश्यक घबराहट से बचाने के लिए उनकी काउन्सलिन्ग करें। उन्होंने निर्देश दिए कि कोरोना पॉजिटिव मरीज के आने और जाने वाले मार्ग को शेष मार्गों से अलग रखें साथ ही अस्पताल क्षेत्र में नियमित रूप से सैनिटाइजेशन की दुरुस्त व्यवस्था रखें।उन्होंने अस्पताल में अनावश्यक भीड़ को कम करने में स्थानीय पुलिस प्रशासन की मदद लेने को कहा । इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि अस्पताल परिसर में जिन लोगों का काम नहीं है उन्हें प्रवेश ना दिया जाए – उन्होंने इन अस्पतालों में भविष्य में काम करने वाले स्वस्थ्यकर्मियों और स्वच्छताकर्मियों हेतु की जाने रही रिहायशी व्यवस्थाओं का भी जायज़ा लिया

इन जिलों का कर चुकी हैं दौरा

अब तक मिशन संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन छ.ग. व टीम द्वारा अब तक राज्य के बारह जिले बिलासपुर, बलौदाबाजार, गरियाबंद, महासमुंद, दुर्ग,राजनांदगांव, नारायणपुर, धमतरी,काँकेर, जगदलपुर,दंतेवाड़ा व बीजापुर का दौरा कर चुकी हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.