दूल्हे की मौत, 108 बाराती को कोरोना : कोरोना से जुड़ी अब तक की सबसे डरावनी खबर…..साफ्टवेयर इंजीनियर था दुल्हा….250 बाराती में 95 को हुआ कोरोना…दुल्हन की रिपोर्ट….

पटना 1 जुलाई 2020। एक शादी समारोह में कोरोना कहर बनकर टूटा। दुल्हे की मौत हो गयी है, तो वहीं शादी और अंतिम संस्कार में शामिल हुए 108 लोग कोरोना संक्रमित हो गये हैं। ये डरावना मामला बिहार की राजधानी पटना की है। पूरा मामला पटना से तकरीबन 50 किलोमीटर दूर पालीगंज इलाके का है, जहां पर 15 जून को एक शादी में शामिल 108 मेहमान कोरोना संक्रमित हो गए. इनमें से 93 लोगों की कोरोना रिपोर्ट सोमवार को पॉजिटिव आई.जानकारी के मुताबिक, 30 वर्षीय दूल्हा गुरुग्राम में सॉफ्टवेयर इंजीनियर था और शादी करने के लिए 12 मई को पटना अपने गांव डीहपाली आया था. इसी दौरान उसके अंदर कोविड-19 के लक्षण पाए गए मगर परिवार वालों ने जांच कराने के बजाए उसकी शादी करवा दी.

शादी के 2 दिन बाद उसकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई और पटना एम्स ले जाते समय रास्ते में ही दूल्हे ने दम तोड़ दिया।  हालांकि कोविड-19 का परीक्षण किए बिना ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया जबकि वह सिम्पटोमैटिक था। जब जिला प्रशासन को इस पूरे मामले की मिली. तो शादी में शामिल होने वाले सभी लोगों की कोरोना जांच करवाई गई। जांच के बाद, 15 लोगों को उसी समय कोरोना संक्रमित पाया गया और अन्य 93 लोगों को सोमवार को कोरोना संक्रमित पाया गया।

पटना के जिला प्रशासन को पालीगंज गांव में दूल्हे की मौत के बारे में सूचना दी गई जिसके बाद जोड़े के रिश्तेदारों का परीक्षण किया गया। यह गांव पटना से 50 किलोमीटर दूर है। 15 जून को शादी समारोह में शामिल होने वाले 15 लोग कोरोना संक्रमित मिले थे। घटना के बाद से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। प्रशासन ने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग शुरू की। सोमवार को 80 से ज्यादा लोग कोरोना वायरस की चपेट में पाए गए। इसके साथ ही यह बिहार का पहला ऐसा मामला बन गया है जिसमें वायरस का इतने बड़े स्तर पर फैलाव हुआ है। हालांकि पटना प्रशासन ने दूल्हे का परीक्षण नहीं किया क्योंकि उसके परिवार ने प्रशासन को सूचना देने से पहले ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया था।

हालांकि, जांच में दुल्हन संक्रमित नहीं पाई गई और उसकी रिपोर्ट नकारात्मक आई है। प्रशासन ने बताया है कि इस पूरे मामले में सरकारी दिशा-निर्देशों की पूरी तरह से अवहेलना की गई है। प्रशासन ने केवल 50 लोगों को किसी भी शादी समारोह में शिरकत करने की अनुमति दी थी, लेकिन इस शादी में गांव के सैकड़ों लोग शामिल हुए थे।
Spread the love