45 की मौत : दर्दनाक बस हादसे में मौत का आंकड़ा बढ़ा….नहर में डूबी बस से ज्यादातर शव छात्र-छात्राओं के निकले…..10 से 12 यात्री अब भी लापता, लोगों के बह जाने की आशंका

भोपाल 16 फरवरी 2021। मध्यप्रदेश के सीधी में हुए दर्दनाक बस हादसे में मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। मौत का आंकड़ा अब 44 से ज्यादा हो गया है, जबकि 10 से 12 लोग अब भी लापता हैं। 60 यात्रियों से भरी बस में 7 लोग खुशनसीब भी रहे, जो जिंदा बच गये। इधर इस दर्दनाक घटना के बाद राज्य में शोक का माहौल है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट की बैठक जहां रद्द कर दी, तो वहीं अमित शाह का कार्यक्रम भी रद्द कर दिया गया है। इधर राज्य सरकार ने मृतकों के लिए 5-5 लाख रुपये का ऐलान किया है, वहीं प्रधानमंत्री मोदी ने भी घटना पर दुख जताते हुए मृतकों को 2-2 लाख रुपये की सहायता राशि की घोषणा की है।

आज सुबह करीब पौने आठ यात्रियों से भरी बस सीधी के बाणसागर नहर में गिर गयी थी। बस सीधी से सतना जा रही थी। हादसे के चार घंटे बाद 11.45 बजे क्रेन की मदद से बस को बाहर निकाला गया। नहर की गहराई 20 से 22 फीट बताई जा रही है। जिस वक्त हादसा हुआ, तब बहाव तेज था, लिहाजा यात्रियों को संभलने का मौका नहीं मिला।

मृतकों में ज्यादातर छात्र व छात्राएं हैं। हालांकि ज्यादातर शवों की शिनाख्त नहीं हुई है। लेकिना माना जा रहा है कि नर्सिंग की कई छात्राएं उस बस में सवार थी, जो परीक्षा के सिलसिले में सीधी से सतना जा रही थी।बताया जा रहा है कि बस की क्षमता 32 यात्रियों की थी, लेकिन बस में करीब 60 लोग भर लिए गए थे। सीधी मार्ग पर छुहिया घाटी से होकर बस को सतना जाना था, लेकिन यहां जाम की वजह से ड्राइवर ने रास्ता बदला और वह नहर के किनारे से बस ले जा रहा था। तभी रास्ता संकरा होने के दौरान ड्राइवर संतुलन खो बैठा और हादसा हो गया। झांसी से रांची के जाने वाला हाईवे सतना, रीवा, सीधी और सिंगरौली होकर जाता है। इस रास्ते पर सड़क बेहद खराब है और यहां हर समय जाम की स्थिति रहती है। एसडीआरएफ की टीम अभी भी रेस्क्यू आपरेशन चला रही है। बस को क्रेन से बाहर निकालने की प्रक्रिया की जा रही है।

घटना के वक्त नहर में बहाव काफी तेज था, लिहाजा मृतकों के बहने की भी आशंका जतायी जा रही है।

Spread the love