मृत महिला जज के सरकारी बंगले से आती थी अजीबोगरीब आवाज, परिजनों ने लगाया आरोप, पहले भी इस सरकरी बंगले में हो चुकी है दो लोगों की मौत….

रायपुर 16 नवम्बर 2020। दीपावली की रात मुंगेली जिला की सत्र न्यायाधीश महिला जज ने अपने सरकारी बंगले में फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। अब इस मामले में चौकाने वाली बात सामने आई है। महिला जज के परिजनों ने आरोप लगाया है कि जज जिस सरकारी बंगले में रहती थी उस बंगले में पहले भी दो मौते हो चुकी है और ये तीसरी मौत महिला जज की है। परिजानो ने ये भी कहा है कि बंगले में रात में कुछ अजीबो गरीब आवाज आती थी। इस बात की जानकारी मृतिका जज ने पहले भी अपने परिजनों को दी थी। फिलहाल इस खुलासे के बाद मुंगेली पुलिस जांच की बात कर रही है, वहीं जांच जारी है, पुलिस जांच के बाद ही जज के सुसाइड करने का कारण पता चल पाएगा।

आपको बता दें कि 14 नवंबर दीपावली की रात मुंगेली में पदस्थ जिला सत्र न्यायाधीश कांता मार्टिन ने अपने सरकारी आवास में लगे पंखे में साड़ी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। जज कांता मार्टिन  के शव के पास से पुलिस को एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ था। सुसाइड नोट में आत्महत्या का कारण जज ने अपनी बीमारी को बताया था। लेकिन अब मूलतः जबलपुर की रहने वाली जज के परिजनों ने आरोप लगाया है कि कान्ता मार्टिन जिस बंगले में रहती थी वो बंगला रहस्यों से भरा हुआ है। परिजनों ने बताया कि कान्ता ने उन्हें फोन करके मौत से पहले बताया था कि उसके बंगले से अजीबो गरीब आवाज आती थी। वो हमेसा कहती थी कि इस घर मे कोई है, इसको छोड़ना पड़ेगा। परिजनों ने ये भी बताया कि महिला जज के आत्महत्या से पहले इसी बंगले में दो लोगों ने जान दी थी। पहला केस 2010 का था। इस बंगले के कमरे में रहने वाले एडीजे ने इसी पंखे में फंदा लगाकर सुसाइड कर लिया था और दूसरे की जलकर मौत हुई थी।
परिजनों के इस आरोप के बाद मुंगेली पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है। हालांकि पुलिस की शुरुवाती जांच में पता चला है कि जज के पति की मौत एक साल पहले ही हो चुकी थी और वो अवसादग्रस्त थी। वहीं मृतिका के दो बच्चे है जिनमे एक दिल्ली और दूसरा रायपुर में रहता है। फिलहाल इन आरोपों के बाद पुलिस जांच में जुट गई है, वहीं मौके में मिले सुसाइड नोट के आधार पर भी जांच की जा रही है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.