कोरोना : IAS पर FIR …. हनीमून मनाकर लौटे अफसर को आइसोलेशन में रहने का था निर्देश….चार दिन से IAS अफसर हैं लापता…अब हुआ FIR दर्ज, शोकॉज भी किया गया जारी….फरवरी में हुई थी शादी

कोल्‍लम 27 मार्च 2020। केरल में एक युवा भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारी के खि‍लाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। अधिकारियों ने बताया कि 2016 बैच के इस  आईएएस अधिकारी ने सिंगापुर में 10 दिन पहले अपना हनीमून मनाया था और वापस लैटे थे।  इसके बाद राज्‍य सरकार ने उसे 14 दिनों तक क्‍वारंटीन में रहने के लिए कहा था, लेकिन इस आईएएस अधिकारी ने घर में पृथक रहने संबंधी नियमों का उल्‍लंघन किया और बिना बताएं बैंग्लुरू  रवाना हो गया।

कोल्‍लम के पुलिस अधीक्षक टी नारायण ने बताया कि स्‍वास्‍थ्य विभाग की शिकायत पर कोल्‍लम के सब-कलेक्‍टर अनुपम मिश्रा, जो उत्‍तर प्रदेश के मूल निवासी हैं, के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज की गई है।

जिला अधिकारी बी अब्दुल नासिर ने बताया कि कोल्लम के उप जिलाधिकारी अनुपम मिश्रा 19 मार्च को सिंगापुर से केरल लौटे थे और उन्हें नियम के मुताबिक घर में पृथक रहने की सलाह दी गई थी। कोरोना वायरस प्रकोप के मद्देनजर विदेश से लौटने वाले प्रत्येक व्यक्ति को पृथक रहना होता है। उत्तर प्रदेश का यह आईएएस अधिकारी शादी के बाद छुट्टी पर था और उसने मलेशिया तथा सिंगापुर जाने की अनुमति नहीं ली थी। नौकरशाह से राज्य सरकार ने सफाई मांगी है।

आईएएस के गायब हो जाने के बाद मचा था हड़कंप

केरल के कोल्लम से कोरोना वायरस संदिग्ध आईएएस ऑफिसर अनुपम मिश्रा लापता बताए जा रहे हैं। एक वरिष्ठ सरकारी प्रवक्ता ने कहा है कि कोल्लम के डिप्टी कलेक्टर अनुपम मिश्रा क्वारंटाइन से बाहर आने के बाद कानपुर चले गए हैं। इस संबंध में यूपी सरकार से संपर्क किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एक आईएएस अधिकारी की यह एक बड़ी लापरवाही है। इसे केंद्रीय कार्मिक मंत्रालय के ध्यान में लाया जाएगा। बताया जा रहा है कि अनुपम मिश्रा 21 मार्च को कानपुर के लिए निकल गए थे।

वह इस महीने के पहले सप्ताह में ब्रिटेन से वापस लौटे थे। वहीं कोल्लम प्रशासन ने अनुपम मिश्रा ड्राइवर, निजी सुरक्षा गार्ड और सचिव को आइसोलेशन में रखा गया है। एक आईएएस ऑफिसर का इस तरह लापता हो जाना सरकार को शर्मिंदा करने जैसा है। प्रवक्ता ने कहा कि एक कप्तान इस तरह से जहाज नहीं छोड़ सकता है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

कोल्लम के जिला कलेक्टर अब्दुल नासिर ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे को सरकार के ध्यान में लाया है और उन्होंने बताया है कि मिश्रा की यात्रा के बारे में उन्हें सूचित नहीं किया गया था। उनके लापता होने की  जानकारी उस समय सामने आई जब दो दिन बाद स्वास्थ्य अधिकारी उनके घर पर गए। घर पहुंचने के बाद वहां वो नहीं मिले। वहीं प्रवक्ता ने कहा कि उनके द्वारा किए गए फोन कॉल को ट्रेस किया गया तो लोकेशन कानपुर दिखा रहा था।

Spread the love