fbpx

कांग्रेस सरकार अल्पमत में : सचिन पायलट की खुली बगावत, कहा- बैठक में नहीं जाऊंगा…. पायलट गुट के 41 विधायक बीजेपी के संपर्क में … उधर मुख्यमंत्री बोले, मेरे साथ

नई दिल्ली 12 जुलाई 2020। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार पर सियासी संकट मंडरा रहा है और ये दो गुटों में बंट गई है. सूत्रों के मुताबिक, सचिन पायलट इस बार आर-पार के मूड में हैं.  सचिन पालयट ने बगावती तेवर अपना लिया है. उन्होंने कहा कि है कि वो कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल होंगे. सोमवार सुबह 10.30 बजे विधायक दल की बैठक होनी है. सूत्रों का कहना है कि सचिन पायलट गुट के 41 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. कांग्रेस के 38 और तीन निर्दलीय विधायक सचिन पायलट के साथ हैं.

इन विधायकों ने कहा है कि चाहे कोई भी स्थिति हो वो पायलट का साथ देंगे. वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर कल सुबह 10:30 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक होगी. वहीं आज रात नौ बजे भी सीएम गहलोत ने एक बैठक बुलाई है. रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन आलाकमान के निर्देश पर जयपुर पहुंचे हैं और ये दोनों इस आज की बैठक का हिस्सा होंगे.

इधर, गहलोत खेमे ने 100 से अधिक विधायकों के समर्थन का दावा किया है. वहीं, बीजेपी की ओर से कहा जा रहा है कि वो सचिन पायलट के संपर्क में नहीं है. ये कांग्रेस का आंतरिक मामला है.बता दें कि विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) की तरफ से डिप्टी सीएम सचिन पायलट को नोटिस भेजे जाने को लेकर उनके खेमे में नाराजगी है.

इससे पहले सचिन पायलट के दोस्त दानिश अबरार, चेतन डूडी और रोहित बोहरा मुख्यमंत्री निवास पहुंचे थे. यहां आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में तीनों विधायकों ने कहा था कि हमारी आस्था मुख्यमंत्री अशोक गहलोत में है. हम लोग दिल्ली अपने व्यक्तिगत काम से गए थे.

तीनों ने कहा कि सचिन पायलट से पिछले दो दिनों में हमारी कोई बातचीत नहीं हुई है. इसे अशोक गहलोत की एक बड़ी सफलता माना जा रहा है क्योंकि यह तीनों विधायक सचिन पायलट के दोस्त हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.