कलेक्टर का ASI पर थप्पड़ चार्ज : पुलिस जांच में कलेक्टर का पुलिस अधिकारी को थप्पड़ मारने का आरोप हुआ प्रूफ…. DGP ने गृह सचिव को पत्र भेजकर कार्रवाई की अनुशंसा की…. IAS-IPS एसोसिएशन में टकराव की आशंका…..कार्रवाई के कयास तेज

भोपाल 5 फरवरी 2020। कलेक्टर निधि निवेदिता की मुश्किलें बढ़ने वाली है। ASI को थप्पड़ मारने के मामले में कलेक्टर पर कार्रवाई के लिए DGP ने गृह सचिव को पत्र लिखा है। बीजेपी नेता को थप्पड़ मारकर सुर्खियों में आयी IAS निधि ने उसी दिन एक ASI को भी पीटा था। ASI को भी थप्पड़ CAA की रैली के दौरान ही मारा गया था। ASI ने इसकी शिकायत की थी, जिसके बाद अब DGP वीके सिंह ने इस पर बड़ा एक्शन लिया है। डीजीपी ने गृह सचिव को पत्र लिखकर पूरी घटना की जानकारी दी है, साथ ही कार्रवाई की अनुशंसा की है। राजगढ़ के ब्यावरा में 19 जनवरी को CAA के समर्थन में हुई रैली के दौरान ड्यूटी पर तैनात एएसआई नरेश शर्मा ने शिकायत की थी कि कलेक्टर मैडम ने उन्हें थप्पड़ मारा। इस शिकायत की जांच SDOP सौम्या अग्रवाल ने की। जांच में शिकायत सही पाई गई। यह जांच रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय भेजी गई थी।

राजगढ़ में कलेक्टर निधि निवेदिता द्वारा भाजपा नेताओं के साथ की गई मारपीट के बाद जब भारतीय जनता पार्टी ने उनके खिलाफ विरोध में सभा का आयोजन किया तब मंच से एक पूर्व मंत्री ने आपत्तिजनक बयान दिया था। इस बयान के तत्काल बाद आईएएस एसोसिएशन ने कलेक्टर के समर्थन में मुख्य सचिव को ज्ञापन सौंपा था। अब जबकि कलेक्टर, पुलिस की जांच में दोषी पाई गई है तब आईएएस एसोसिएशन की तरफ से कोई बयान नहीं आया।

 

पुलिस चाहे तो इस मामले में सीधे कार्रवाई कर सकती थी, लेकिन मामला कलेक्टर से जुड़ा होने की वजह से सरकार को पत्र लिखकर इसकी जानकारी दी गई है। इस पत्र के बाद आईएएस एसोसिएशन और आईपीएस एसोसिएशन में मतभेद उजागर हो गए हैं। मध्यप्रदेश के राजगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के सांसद रोडमल नागर ने 19 जनवरी 2020 को नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में एक रैली का आयोजन किया था। कलेक्टर निधि निवेदिता ने सारी तैयारियां हो जाने के बाद 16 जनवरी को रैली को परमिशन देने से मना कर दिया।

बहस के दौरान कलेक्टर निधि निवेदिता ने इस मामले को अपनी प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया। रैली को रोकने के लिए धारा 144 लगा दी गई इसके बावजूद जब 19 जनवरी को भाजपा के लोगों ने रैली निकाली तो कलेक्टर निधि निवेदिता ने उसे रोकने के लिए रैली में शामिल नेताओं के साथ मारपीट शुरू कर दी। इसी दौरान उन्होंने ASI को भी चांटा मारा था। 61 साल के ASI नरेश शर्मा रैली की रिकार्डिंग कर रहे थे, तभी कलेक्टर वहां पहुंची और रैली की जानकारी मांगी, फिर तमतमाते हुए एक चांटा मार दिया। खबर तो यह भी है कि उन्होंने एक पटवारी को चांटा मारा था लेकिन पटवारी ने शिकायत नहीं की। चौंकाने वाली बात यह है कि रैली को रोकने के लिए कलेक्टर ने पूरा बाजार बंद करा दिया था।

 

Spread the love