शिवरतन शर्मा के नाथूराम वाले बयान पर CM भूपेश का करार तंज… कविता भी सूनाई ..बोले- “राम का ज़िक्र आया तो रावण का ज़िक्र तो आएगा ही..आपको मैं एंबेसडर दिख गया.. सुनो यह कविता”

रायपुर,27 फ़रवरी 2020। राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार का पक्ष रखते हुए विपक्ष की उठाई आपत्तियों का जवाब दे रहे थे। उस दौरान शिवरतन शर्मा ने टोका –
“किसान दुखी है”
इस पर CM भूपेश बघेल ने झट से कहा –
“आप को क्या कहूँ.. आपने तो मुझे एंबेसडर बना दिया.. अरे भाई जब राम का ज़िक्र आएगा तो रावण का ज़िक्र तो आएगा ही.. गोडसे मूर्दाबाद नारे में दिक़्क़त हो जाती है”
इसके ठीक बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने संत कवि पवन दीवान की कविता को विपक्ष को पढ़ कर सूनाया।

जिस कविता को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पढा, वह यह थी –
“ओ दुनिया के पापी लोगों
मेरी गंगा में स्नान करो
मेरे सुख से है जलन अगर
चुल्लू भर जल में डूब मरो
मेरी मां-बहनों के सिर पर
यह शांति सत्य की गागर है
खारी मीठी नदियां मिलतीं
मेरा भारत एक सागर है
हम कालजयी हैं, वीर पुरूष
चलता रहता है यज्ञ-समर
हम राम, युद्ध करके हमसे
कितने रावण हो गये अमर
वेदान्त हमारा स्वाभिमान
शिष्टता हमारी सीता है
हर शब्द हमारा सिद्ध मन्त्र
हर सांस हमारी गीता है”

Spread the love