CM भूपेश का रमन सिंह पर तीखा पलटवार, कहा- “गरीबों का खाया चावल लग रहा है पच नहीं रहा है”….रमन सिंह ने गोधन योजना को बताया था प्लानिंग कमीशन के पैसे के दुरूपयोग करने वाली योजना”

रायपुर 27 दिसंबर 2020। गोबर पर गरमाई सियासत के बीच पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के बयान पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तीखा पलटवार किया है। जांजगीर रवाना होने से पहले पत्रकारों से बातचीत में भूपेश बघेल ने कहा कि गोधन योजना रमन सिंह को समझ नहीं आयेगी, उन्होंने जो 15 सालों तक गरीबों के हक का जो चावल खाया है, लगता है वो उन्हें पच नहीं रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मीडिया को दिये एक बयान में कहा था कि ..

“नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी इनकी फ्लैगशिप योजना है, लेकिन उसमें सिर्फ प्लानिंग कमीशन के पैसे का दुरूपयोग हो रहा है, किसी भी तरह का बजट में कोई प्रावधान नहीं किया गया है। गांवों में जो गोठान बनाया गया है, वहीं शेड की व्यवस्था नहीं है, मवेशियों के लिए कोई इंतजाम नहीं है, गायें सड़कों पर मर रही है”

पूर्व मुख्यमंत्री के इस बयान पर पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चुटकी ली है। उन्होंने रमन सिंह पर तंज कसते हुए कहा कि ..

“रमन सिंह को गांवों की योजना समझ नहीं आयेगी, उनके लिए स्काईवाक, ऊंची-ऊंची बिल्डिंग, नया रायपुर ही योजना था, गांवों में गोबर चुनने की परंपरा काफी पुरानी है, जिनके घर में एक भी मवेशी नहीं होता था, वो भी घूम-घूमकर गोबर इकट्ठा करता था और घर के लिए कंडे और घर की पोताई की व्यवस्था करता था, गोबर योजना से कई लोगों की जिंदगी सुधरी है, जो साइकिल से पहले गोबर इकट्ठा करता था, उसने अब स्कूटी खरीद ली है। रमन सिंह ने जो गरीबों की योजना का चावल खाया है ना, वो लगता है उन्हें पच नहीं रहा है”

आपको बता दें कि राज्य सरकार ने जब से प्रदेश में गोधन योजना की शुरुआत की है। तभी से बीजेपी कांग्रेस पर हमलावर है। आपको बता दें कि देश में छत्तीसगढ़ इकलौता राज्य है, जहां दो रूपये प्रति किलो की दर से गोबर की बिक्री की जाती है।

Spread the love