मुख्यमंत्री का दौरा रद्द : लगातार दूसरे दिन नहीं उड़ पाया मुख्यमंत्री का चौपर…. कल भी दो जिलों का दौरा करना पड़ा था रद्द….आज बस्तर जाने वाले थे मुख्यमंत्री

रायपुर 8 फरवरी 2020। खराब मौसम की वजह से लगातार दूसरे दिन भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का दौरा निरस्त हो गया है। इससे पहले शुक्रवार को भी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का बलौदाबाजार और मुंगेली का दौरा रद्द हो गया था। आज मुख्यमंत्री को बस्तर के नारायणपुर दौरे पर जाना था। मुख्यमंत्री नारायणपुर जिले के ग्राम बासिंग में अबूझमाड़ पीस हाफ मैराथन 2020 के समापन समारोह में शामिल होना था। नारायणपुर जिले के विकास के लिए 261 करोड़ 62 लाख रूपए की लागत के 79 कार्यों का लोकार्पण करने वाले थे। श्री बघेल इनमें से 162 करोड़ 36 लाख रूपए की लागत के 46 कार्यों का लोकार्पण और 99 करोड़ 26 लाख रूपए की लागत के 33 कार्यों का भूमिपूजन का कार्यक्रम था।

मुख्यमंत्री जिन कार्यों का लोकार्पण करने वाले थे उनमें 74 करोड़ 90 लाख रूपए की लागत से नेलवाड़ में निर्मित 220 के.व्ही. विद्युत उपकेन्द्र, 3 करोड़ 32 लाख रूपए की लागत से विकासखण्ड ओरछा के ग्राम आकाबेड़ा में निर्मित 33/11 के.व्ही. 3.15 एम.व्ही.ए. विद्युत उपकेन्द्र, परलभाट, खोड़गांव, सुपगांव, भरण्डा, टेमरूगांव, कनेरा, खैराभाट और अंजरेल में एक करोड़ 8 लाख रूपए की लागत से लगाए गए 8 सोलर पावर प्लांट संयंत्र (प्रत्येक प्लांट की लागत 13 लाख रूपए) और ग्राम गरांजी के शिक्षा परिसर में 49 लाख रूपए की लागत से स्थापित सोलर पावर प्लांट संयंत्र शामिल है। इसी तरह श्री बघेल 8 करोड़ 86 लाख रूपए की लागत से नारायणपुर-कोण्डागांव मार्ग में छेरीबेड़ा नदी पर निर्मित पुल, 4 करोड़ 20 लाख रूपए की लागत से निर्मित 31 पंचायत भवन शामिल हैं। प्रत्येक पंचायत भवन का निर्माण लगभग 13 रूपए की लागत से किया गया है।

मुख्यमंत्री कार्यक्रम में जिन कार्यों का लोकार्पण करेंगे उनमें लगभग 18 करोड़ 44 लाख रूपए की लागत से छेरीबेड़ा में निर्मित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय भवन, नारायणपुर में 8 करोड़ 18 लाख रूपए की लागत से निर्मित 250 सीटर आवासीय बालक छात्रावास भवन, बेनूर और छोटे डोंगर में एक करोड़ 79 लाख रूपए की लागत से निर्मित 50-50 सीटर पोस्ट मैट्रिक आदिवासी बालक छात्रावास भवन, बेनूर, छोटे डोंगर, सोनपुर और बासिंग में पृथक-पृथक एक करोड़ 62 लाख रूपए की लागत से निर्मित आदिवासी बालक छात्रावास भवन, नारायणपुर में एक करोड़ 20 लाख रूपए की लागत से निर्मित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन, एक करोड़ की लागत से सुलेंगा में निर्मित मॉडल स्कूल के 100 सीटर छात्रावास भवन, 104 करोड़ की लागत से निर्मित 9 प्राथमिक शाला भवन, 181 करोड़ रूपए की लागत से औद्योगिक प्रशिक्षण केन्द्र नारायणपुर में निर्मित 100 सीटर छात्रावास भवन, धौड़ाई और बखरूपारा नारायणपुर में 95 लाख रूपए की लागत से निर्मित शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन, 73 लाख रूपए की लागत से करलखा में निर्मित हाई स्कूल भवन, 3 करोड़ 36 लाख रूपए की लागत से 12 गांवों में निर्मित 12 उप स्वास्थ्य केन्द्र शामिल हैं। इन उप स्वास्थ्य केन्द्रों का निर्माण ग्राम कोडोली, आदेर, नेड़नार, कुडमेल, कोहकामेटा, झारावाही, कुतुल, गुरीया, महिमागवाड़ी, सोनपुर, कुन्दला और आकाबेड़ा में किया गया है। प्रत्येक उप स्वास्थ्य केन्द्र 28 लाख रूपए की लागत से बनाए गए हैं।

श्री बघेल ग्राम कोहकामेटा और ओरछा में लगभग एक करोड़ 14 लाख रूपए की लागत से पृथक-पृथक निर्मित स्वास्थ्य विभाग के ट्रांजिस्ट हॉस्टल सहित एक करोड़ 23 लाख रूपए की लागत से जिला अस्पताल नारायणपुर स्थापित विद्युत सब स्टेशन, हाई मास्ट लाइट, जनरेटर, सहित विद्युत कार्य, 81 लाख रूपए की लागत से नारायणपुर मंे निर्मित मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय भवन का लोकार्पण भी करेंगे।

मुख्यमंत्री ने जिन कार्यों का भूमिपूजन करेंगे उनमें लगभग 31 करोड़ रूपए की लागत से प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बनने वाली 4 चार सड़कें, 5 करोड़ 89 लाख रूपए की लागत से नारायणपुर में बनने वाले सर्किट हाउस भवन, लगभग 10 करोड़ रूपए की लागत से नारायणपुर में बनने वाला शासकीय आदर्श आवासीय महाविद्यालय भवन, 4 करोड़ रूपए की लागत से शिक्षा परिसर गरांजी में बनने वाली बाउड्री वाल और सड़क, इसी परिसर में एक करोड़ रूपए की लागत से किए जाने वाले जल प्रदाय कार्य, दो करोड़ 67 लाख रूपए की लागत से बनने वाले 34 गौठानों, दो करोड़ रूपए की लागत से बनने वाले 30 आंगनबाड़ी भवन, एक करोड़ 77 लाख रूपए की लागत से नारायणपुर लाइवीहुड कालेज में बनने वाला आवास गृह, ग्राम गरांजी, दुग्गाबेंगाल, सुलेंगा (धौ.), भाटपाल और नेलवाड़ में एक करोड़ 75 लाख रूपए की लागत से जल प्रदाय योजना का भूमिपूजन करेंगे।

Spread the love