मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंच से कलेक्टर दीपक सोनी की टीम की तारीफ की…. बोले- “सुपोषण ही नहीं, मलेरिया और डायरिया मुक्त बना है दंतेवाड़ा”…. गारमेंट फैक्ट्री डेनेक्स का भी किया शुभारंभ, कहा- ये है “नवा दंतेवाड़ा का मॉडल”…..युवाओं को रोजगार से जोड़ नक्सली संगठन पर चोट करने की भी कही बात

दंतेवाड़ा 31 जनवरी 2021। दंतेवाड़ा दौरे पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज कलेक्टर दीपक सोनी की खूब पीठ थपथपाई। मुख्यमंत्री ने दंतेवाड़ा जिला को करीब 650 करोड़ के भूमिपूजन और लोकार्पण की सौगात दी। ये एक दिन में किसी जिले को दी जाने वाली सबसे बड़ी सौगात है। मुख्यमंत्री ने दौरे के दौरान डेनेक्स गारमेंट फैक्ट्री का शुभारंभ भी दिया। कलेक्टर दीपक सोनी की पहल डेनेक्स गारमेंट फैक्ट्री स्थापित की गयी है, जो महिला समूह बिहान की तरफ से संचालित किया जा रहा है।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिला प्रशासन की काम की तारीफ करते हुए कहा कि  जो दंतेवाड़ा सालों तक पिछड़ा जिला कहा जाता था, आज वो देश के अव्वल जिलों में शुमार होने लगा है। मुख्यमंत्री ने मंच से ही जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विभाग की जमकर तारीफ कर दी। उन्होंने कहा कि

दंतेवाड़ा की महिलाएं और बच्चे शारीरिक रूप से कमजोर थे, वो खून की कमी और कुपोषण से पीड़ित थे, इसलिए मैंने यहां से ही सुपोषण अभियान की शुरुआत की थी। मुझे आज इस बात की खुशी है कि यहां के बच्चे अब स्वस्थ्य हो रहे हैं। कुपोषण की दर भी घटी है। ना सिर्फ इस जिले ने सुपोषण अभियान बल्कि मलेरिया मुक्त दंतेवाड़ा और डायरिया मुक्त दंतेवाड़ा भी बनाया है। इस साल एक भी व्यक्ति की मौत यहां डायरिया से नहीं हुई है। मैं इसके लिए यहां का जिला प्रशासन, स्वास्थ्य विभाग, महिला बाल विकास विभाग को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

मुख्यमंत्री की मौजूदगी में आज चार-चार एमओयू भी किये गये। खास बात ये रही कि ये सभी एमओयू किसी अधिकारी या मंत्री ने नहीं किये, बल्कि स्थानीय महिलाएं और संचालक प्रतिनिधियों ने किये।  मुख्यमंत्री महिला स्वाबलंबन को लेकर भी जिला प्रशासन की खूब तारीफ की। उन्होंने कहा कि जिले की महिलाएं स्वाबलंबन की दिशा में बेहतरीन काम कर रही है। जिला अब जल्द ही गारमेंट हब बनने जा रहा है।

दंतेवाड़ा का गारमेंट ब्रांड ‘डेनेक्स‘ की भी तारीफ की

मुख्यमंत्री ने मंच से दंतेवाड़ा के गारमेंट ब्रांड डेनेक्स की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि जल्द ही दंतेवाड़ा का डेनेक्स गारमेंट देश दुनिया में अपनी पहचना बनायेगा। उन्होंने कहा कि इस गारमेंट सेक्टर से जिले के सैंकड़ों परिवारों को रोजगार मिलेगा। संबोधन के पहले मुख्यमंत्री गीदम विकासखण्ड के ग्राम हारम पहुंचे थे, जहां बिहान महिला समूहों द्वारा संचालित डेनेक्स फैक्ट्री का उदघाटन किया गया। मुख्यमंत्री ने मंच से “डेनेक्स” नाम का शाब्दिक अर्थ बताते हुए कहा कि इसका मतलब हुआ “दंतेवाड़ा नेक्सट” यानि “नवा दंतेवाड़ा” गारमेंट फैक्टरी का उदघाटन किया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस दौरान दंतेवाड़ा के युवाओं से वादा किया कि उन्हें रोजगार से जोड़ा जायेगा, ताकि उन्हें पलायन करने की जरूरत ना हो। उन्होंने कहा कि अगर युवाओं को रोजगार मिलेगा तो नक्सलियों की बटालियन में कोई शामिल नहीं होगा। पिछली बार भी नक्सलियों ने कहा था कि उन्हे अपने संगठन में भर्ती करने के लिए लोग नहीं मिल रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि …

“मुझे तो यही मालूम था कि बस्तर के युवा आंध्र प्रदेश या तेलंगाना में जाते हैं, लेकिन लॉकडाउन में पता चला कि यहां के युवा तो तमिलनाडू और गोवा में भी काम करते हैं। कभी कवासी लखमा बोलते थे कि उनके इलाके के मजदूर गोव में फंसे हैं, तो कभी मोहन मरकाम कहते थे उनके मजदूर तमिलनाडू में फंसे हैं, कभी विधायक करते थे उनके मजदूर कर्नाटक में फंसे हैं। लेकिन मैं अब कहता हूं कि हम जहां यहां का लोहा जापान जा सकता है, यहां का खनिज देश के दूसरे हिस्से में जा सकता है तो हम क्यों नहीं यहां इंडस्ट्री लगा सकते हैं, ताकि यहां के बच्चों को यही रोजगार मिल सके”

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस दौरान दंतेवाडा़ को खूब सारी सौगात दी। दो तहसील के अलावे 3 उपतहसील, 7 नये खाने, शहीद महेंद्र कर्मा पालिका बाजार, बस स्टैंड के एक्सटेंशन सहित कई अन्य सौगाते भी जिला को मुख्यमंत्री ने दी।

Spread the love