कुलपति गौरीदत्त शर्मा के एक्सटेंशन की संभावना खतम, राजभवन इस अधिकारी को दे रहा अटल बिहारी बाजपेयी विश्वविद्यालय के कुलपति का चार्ज

0 70 साल उमर पूरे करने जा रहे गौरीदत्त एक्सटेंशन के लिए थे प्रयासरत, मगर राजभवन ने दो टूक इंकार कर दिया

रायपुर, 29 सितंबर 2020। अटलबिहारी बाजपेयी विश्वविद्यालय के कुलपति गौरीदत्त शर्मा के एक्सटेंशन के सारे प्रयास विफल हो गए। राजभवन ने उनकी फाइल क्लोज कर दी है।
बता दें, किस्मत के बेहद धनी गौरीदत्त का चार साल पहले एक कार्यकाल पूरा हो गया था। विश्वविद्यालय बकायदा समारोह आयोजित कर उन्हें बिदाई भी दे डाली थी। लेकिन, जिस नए कुलपति का चयन किया गया, उनके नाम पर विरोध हो गया। उन्हें प्रोफेसर का दस साल का अनुभव नहीं था। ऐसे में, सरकार ने नए कुलपति के सलेक्शन होते तक गौरीदत्त को प्रभार दे दिया। पिछली सरकार ने उन्हें फिर से पूर्णकालिक कुलपति का आदेश जारी कर दिया था।


गौरीदत्त 2 अक्टूबर को 70 साल के हो जाएंगे। छत्तीसगढ़ विवि अधिनियम के अनुसार कुलपति का अधिकतम उम्र 70 साल है। हालांकि, पहले 65 साल ही था। अविभाजित मध्यप्रदेश में शिव श्रीवास्वत को कुलपति बनाने के लिए तत्कालीन मूुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कुलपति का एज बढ़ाकर 70 कर दिया था। तब से यही चल रहा है।
70 साल आयु पूरी करने और दो कार्यकाल के बाद भी गौरीदत्त कुलपति पद पर एक्सटेंशन की कोशिश कर रहे थे। कोरोना का हवाला देकर इसके लिए राजभवन और सरकार के स्तर पर काफी प्रयास किया गया कि किसी तरह सेवावृद्धि मिल जाए। इसके लिए कई और तर्क दिए गए। ओपन विवि के कुलपति टीडी शर्मा की सेवावृद्धि का भी हवाला दिया गया। लेकिन, राजभवन ने नियमों के विपरीत जाकर उन्हें सेवावृद्धि देने की अर्जी खारिज कर दी।
राज्यपाल अनसुईया उइके ने तय किया है कि नए कुलपति का सलेक्शन होते तक बिलासपुर कमिश्नर डाॅ0 संजय अलंग को कुलपति का चार्ज सौंप दिया जाए। विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि राजभवन सचिवालय ने इस संबंध में नोटशीट राज्यपाल को भेज दी है। समझा जाता है, कल इस पर राज्यपाल मुहर लगा देंगी। इसके बाद बिलासपुर कमिश्नर का आदेश जारी हो जाएगा।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.