CG रिजल्ट : बोनस अंक ने कई होनहारों का बिगाड़ा खेल….बोनस मार्क्स ना होता तो.12वीं ही नहीं 10वीं का भी बदल जाता मेरिट लिस्ट….चौथे नंबर पर आये निखिल बन जाते टॉपर…टॉपर पहुंच जाती नंबर-3 पर

रायपुर 23 जून 2020। बोर्ड परीक्षा में अदर एक्टिविटी बोनस अंक ने सिर्फ 12वीं के टॉपरों का ही समीकरण नहीं बिगाड़ा है, बल्कि 10वीं की मेरिट लिस्ट में भी खूब उथल-पुथल किया है। दसवीं की परीक्षा में प्रज्ञा कश्यप ने 100 प्रतिशत अंक हासिल कर ना सिर्फ प्रदेश की स्टेट टॉपर बनी, बल्कि छत्तीसगढ़ ही नहीं देश में नया इतिहास रच दिया।

हालांकि टॉपर लिस्ट पर नजर दौड़ाये तो मुंगेली की इस बेटी को टॉपर बनाने में ना सिर्फ उसकी मेहनत बल्कि OTHER एक्टिविटी के मार्क्स का भी बड़ा योगदान रहा। दरअसल प्रज्ञा को 600 अंक में कुल 600 अंक मिले हैं, जिसमें से 10 अंक उसे स्काउट के कैडर के तौर पर मिले हैं। मतलब सब्जेक्ट मार्क्स के रूप में उसे 590 नंबर मिले थे। उसी तरह से बेमेतरा की प्रशंसा राजपूत सकेंड टॉपर रही, 600 में उन्हें 596 अंक मिले और उन्हें 15 नंबर स्टेट लेवल स्पोर्ट के लिए दिया गया। मतलब प्रशंसा के कुल सबजेक्ट मार्क्स 581 थे। उसी तरह नंबर तीन पर आयी भारती यादव की बात करें तो उन्हें 600 में से 592 अंक मिले। उन्हें सबजेक्ट के नंबर में 582 मिले, यानि नंबर दो पर रही प्रशंसा के एक ज्यादा, लेकिन वो स्काउट कैडर की वजह से बोनस के तौर पर 10 नंबर ही पा सकी।

जबकी नंबर चार पर मेरिट सूची में आये निखिल साव को 600 में से 592 मिले। ये सभी नंबर सबजेक्ट के नंबर थे। अन्य चीजों में भाग नहीं लेने की वजह से उसे बोनस नहीं मिला, लिहाजा वो चौथे नंबर पर रहा। वहीं हाल 5वें नंबर पर रहे बीजेंद्र कुमार देवांगन का भी है। 600 नंबर में से बीजेंद्र को 591 नंबर मिले हैं। उसे भी कोई बोनस अंक नहीं मिला। जाहिर है अगर बोनस अंक को अलग कर दिया जाये तो पूरे मेरिट लिस्ट का ग्राफ ही बदल जाता।

बोनस अंक से अलग होकर सिर्फ सबजेक्ट के नंबर को देखें तो पहला नंबर निखिल साव का आता, जिसे 592 नंबर मिले थे, दूसरे नंबर बीजेंद्र कुमार 591 नंबर के साथ आते। प्रज्ञा कश्यप तीसरे नंबर पर आती, जबकि दूसरे और तीसरे नंबर पर आयी प्रशंसा और भारती का नंबर मेरिट सूची में और भी नीचे चला जाता।

Spread the love