ब्रेकिंग : कोरोना वैक्सीन पर PM मोदी की 10 बड़ी बातें….. “वैक्सीन के आखिरी चरण में, कोरोना से लड़ाई ढीली नहीं पड़नी चाहिए”

नयी दिल्ली 24 नवंबर 2020। राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारे वैज्ञानिक लगातार वैक्सीन को लेकर काम कर रहे हैं लेकिन हम वैक्सीन आने का समय तय नहीं कर सकते. वैक्सीन का आना हमारे हाथ में नहीं है और हमें नहीं पता कि कोरोना की वैक्सीन कब तक आएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ये भी कहा कि कुछ लोग वैक्सीन पर राजनीति कर रहे हैं और मैं लोगों को राजनीति करने से नहीं रोक सकता. राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि हमारे वैज्ञानिक पूरी तरह कोशिश में लगे हैं लेकिन हम खुद ये तय नहीं कर सकते कि वैक्सीन कब तक आ पाएगी.

पीएम मोदी ने कहा, ”मैं राज्यों से आग्रह करता हूं कि वे जल्द से जल्द विस्तृत योजनाएं भेजें. यह निर्णय लेने में हमारी मदद करेगा क्योंकि आपके अनुभव मूल्यवान हैं. मुझे आपकी समर्थक सक्रिय भागीदारी की आशा है. टीका का काम चल रहा है लेकिन मेरा आपसे अनुरोध है कि इसमें कोई लापरवाही नहीं होनी चाहिए, कोरोना से लड़ाई ढीली नहीं पड़नी चाहिए.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रत्येक नागरिक के लिए कोरोना वायरस का टीकाकरण एक राष्ट्रीय प्रतिबद्धता की तरह है. प्रत्येक राज्य और हितधारक को यह सुनिश्चित करने के लिए एक टीम के रूप में काम करना है कि यह मिशन व्यवस्थित, सुचारू और निरंतर प्रयास है.

कोरोना वैक्सीन निर्माण के संदर्भ में पीएम मोदी ने बोलते हुए कहा, ”भारत सरकार वैक्सीन डेवलप्मेंट को ट्रैक कर रही है. हम भारतीय वैक्सीन डेवलपर्स और निर्माताओं के संपर्क में हैं. हम वैश्विक नियामकों, अन्य देशों की सरकारों, बहुराष्ट्रीय संगठनों और अंतरराष्ट्रीय कंपनियों के साथ भी संपर्क में हैं.”

पीएम मोदी ने कहा, ”हमारे लिए सुरक्षा काफी महत्वपूर्ण है, जितनी भी वैक्सीन अपने नागरिकों को दी जाएंगी वह सभी वैज्ञानिक मानकों पर सुरक्षित होंगी. राज्यों के साथ सामूहिक समन्वय के साथ वैक्सीन वितरण की रणनीति तैयार की जाएगी. राज्यों को भी कोल्ड स्टोरेज की सुविधा शुरू करनी चाहिए.”

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना से ठीक हुए लोगों की बेहतर स्थिति को देखकर कई लोग सोचते हैं कि वायरस कमजोर है और वे जल्द ही ठीक हो जाएंगे, इससे बड़ी लापरवाही हो सकती है. टीके पर काम करने वाले अपना काम कर रहे हैं, लेकिन हमें यह सुनिश्चित करने पर ध्यान देने की आवश्यकता है कि यदि लोग सतर्क रहें तो वायरल के फैलने पर अंकुश लग सकता है. हमें 5% के अंदर सकारात्मकता दर लाने के लिए कोशिश करना होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जहां तक कोरोना से ठीक होने की बात आती है सभी के संयुक्त प्रयासों के परिणामस्वरूप आज भारत अन्य देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में है.

Spread the love