comscore

ब्रेकिंग-कॉलेजों की स्थगित परीक्षाएं ऑनलाइन होंगी…उच्च शिक्षा आयुक्त ने कुलपतियों को पत्र लिख जिलेवार उपलब्ध संसाधनों के बारे में मांगी रिपोर्ट

NPG.NEWS
रायपुर, 16 अप्रैल 2020। कोरोना संक्रमण के चलते कॉलेजों की स्थगित परीक्षाएं ऑनलाइन आयोजित करने की संभावनाओं पर विचार किया जा रहा है। इसके लिए उच्च शिक्षा आयुक्त शारदा वर्मा ने विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को पत्र लिखा है।
उच्च शिक्षा आयुक्त ने अपने पत्र में लिखा है, कोरोना संक्रमण के कारण लॉकडाउन होने से कालेजों की परीक्षाएं विलंबित हो चुकी हैं। इसे देखते हुए उक्त परीक्षाएं ऑनलाइन पद्धति से कराये जाने की संभावना का आंकलन किया जाना है। इसके लिए जिलेवार परीक्षार्थियों की संख्या, ऑनलाईन परीक्षाएं कराए जाने की स्थिति में जिलेवार उपलब्ध संसाधनों की व्यवस्था याने कंप्यूटर लैब की संख्या और क्षमता, इंटरनेट कंनेक्टिविटी तथा अन्य आवश्यक सामग्री की उपलब्घता के बारे में जानकारी मांगी गई है। आयुक्त ने कुलपतियों से यह भी पूछा है कि क्या ऑनलाईन परीक्षाओं के आयोजन के लिए परीक्षा साफ्टवेयर की आवश्यकता होगी यदि हां तो आउट सोर्सिंग एजेंसी का चयन और साफ्टवेयर बनाने के लिए कम-से-कम कितने समय की आवश्यकता होगी।

कोरोना में कॉलेजों के छात्रों को मिलेगा जनरल प्रमोशन या होगी परीक्षाएं…छत्तीसगढ़ के पांचों विश्वविद्यालयों के लाखों छात्र उलझन में….

उच्च शिक्षा आयुक्त ने कुलपतियों से कहा है मांगी गई जानकारियों को कल 17 अप्रैत को सुबह 11 बजे तक मुहैया कराएं।
हालांकि, सूबे के पांच विश्वविद्यालयों के करीब साढ़े पांच लाख छात्रों के लिए सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए ऑनलाइन परीक्षा कैसे होगी, इसका पत्र में कोई जिक्र नहीं है। क्योंकि, सभी जिलों में कंप्यूटरों की उतनी संख्या नहीं हैं। और, जब छात्रों को ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए कॉलेज या सरकारी संस्थानों में आना पड़ेगा तो फिर सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो नहीं हो पाएगा।

जाहिर है, देश में कोरोना का फैलाव होने से पहले छत्तीसगढ़ में 5 मार्च से विश्वविद्यालयीन परीक्षाएं शुरू हो गई थीं। सभी कॉलेजों में आठ से दस पेपर हो गए थे। लेकिन, कोरोना का संक्रमण बढ़ने के बाद सरकार ने एहतियात के तौर पर आदेश जारी कर परीक्षाओं पर रोक लगा दी। इससे 20 मार्च के बाद की सारी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई। इसके बाद से छात्र टकटकी लगाए बैठे हैं कि परीक्षाओं को लेकर सरकार क्या फैसला लेती है।
प्रदेश में पांच विश्वविद्यालय हैं। इनमें से पं0 रविशंकर शुक्ल विवि रायपुर में एक लाख 30 हजार, अटल बिहारी बाजपेयी विवि बिलासपुर में एक लाख 80 हजार, हेमचंद यादव विवि दुर्ग में एक लाख 40 हजार, बस्तर विश्वविद्यालय, जगदलपुर में 50 हजार और गहिरा गुरू विवि अंबिकापुर में करीब 50 हजार स्टूडेंट्स हैं। याने करीब साढ़े पांच लाख।

Spread the love