ब्रेकिंग : कानून व्यवस्था की मीटिंग के बाद गृहमंत्री बोले…..कोरोना में लोग लौटे हैं…लाखों का पैकेज था…अब उनके पास कोई काम नहीं है…….बयान पर दोबारा पूछा गया सवाल, क्या कोरोना की वजह क्राइम बढ़ा…तो ये गृहमंत्री का मिला ये जवाब

रायपुर 22 नवंबर 2020। छत्तीसगढ़ में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर आज गृहमंत्री ने बैठक ली। गृह सचिव सुब्रत साहू और डीजीपी डीएम अवस्थी की मौजूदगी में हुई इस बैठक में जिलेवार कानून व्यवस्था की समीक्षा की गयी और अपराध को कम करने के निर्देश दिये। बैठक में गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू के साथ संसदीय सचिव विकास उपाध्याय भी मौजूद थे। बैठक के बाद पत्रकार से बातचीत करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि उपराधियों के मन में पुलिस का खौफ होना चाहिये, इसके लिए निर्देश दिया गया है, साथ ही पेट्रोलिंग को बढ़ाने को भी कहा है। उन्होंने कहा कि

” चाकूबाजी की वारदात बढ़ी है, उसी तरह कुछ जिलों में भी अपराध बढ़े हैं, मैंने सभी को निर्देशित किया है कि अपराधियों के मन में पुलिस का डर होना चाहिये, उसी तरह थानों में शाम के वक्त में डायरी लिखने का काम किया जाता है, मैंने कहा है कि शाम के वक्त में ज्यादा से ज्यादा पुलिसकर्मी सड़कों पर नजर आयें, शाम में डायरी ना लिखें,  थानों में शेड्यूल बनाया जाये, और शाम के वक्त में जिस वक्त सड़कों पर भीड़ होती है, उस वक्त पुलिस पेट्रोलिंग करे”

गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि कोरोना काल की वजह से कुछ अपराध बढ़े हैं। उन्होंने कहा कि

“कोरोना पीरियड में जैसे लॉकलाउन में कई लोग बाहर से लौटे हैं, लाखों रूपये का पैकेज था उनके पास अब काम नहीं तो उससे भी कुछ अपराध की प्रवृतियां आयी है, ग्रामीण इलाकों में तो हमने रोजगार दिया है, लेकिन शहर में वैसा काम नहीं मिल पाया है…… जैसे दो दोस्त बैठे हैं नास्ता कर रहे हैं, विवाद हुआ तो एक ना चाकू मार दिया, लेकिन उस वक्त उनकी मानसिकता क्या कैसे हैं”

हालांकि जब इस बयान के बाद उनसे पत्रकारों ने ये सवाल पूछा कि क्या वो मान रहे हैं कि लॉकडाउन की वजह से अपराध बढ़ा है तो उन्होंने कहा कि उन्होंने ऐसा कुछ नहीं कहा है। वो बता रहे हैं कि परिस्थियों की वजह से भी अपराध बढ़ा है। उन्होंने सूचना तंत्र को मजबूत करने का भी निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि मैंने पहले से ही कहा है कि पुलिस का काम ऐसा होना चाहिये कि आमलोगों में पुलिस के प्रति आदर और अपराधियों के मन में खौफ हो। हालांकि जब इस बयान पर उनसे ये पूछा गया कि क्या वो मानते हैं कि अभी अपराधियों के मन में पुलिस का खौफ खत्म हो गया, तो उन्होंने कहा कि वो ऐसा कुछ नहीं बोल रहे हैं।

बैठक में नशा और अन्य बुराईयों पर भी कड़ाई से एक्शन लेने का निर्देश दिया है।

Spread the love