ब्रेकिंग : शिक्षाकर्मियों की समस्याओं को सुलझाने के लिए बनी कमेटी….एरियर्स, पुनरीक्षित वेतनमान सहित इन समस्याओं को त्वरित निपटारा होगा…. कमेटी में ये अधिकारी होंगे शामिल

रायपुर 4 फरवरी 2021। शिक्षाकर्मियों का भले ही संविलियन शिक्षा विभाग में हो गया है… बावजूद शिक्षाकर्मियों के कई मामलों को निपटारा अब तक नहीं हुआ है। शिक्षा विभाग ये कहकर पल्ला झाड़ रहा है कि ये मामला पंचायत विभाग से जुड़ा है। शिक्षाकर्मियों के मुद्दे पर लगातार बनती विवाद की स्थिति को देखते हुए पंचायत विभाग के संचालक कैसर अब्दुल हक ने एक कमेटी गठित की है।

कमेटी में पंचायत और शिक्षा विभाग दोनों के अधिकारी हैं। पंचायत विभाग के संयुक्त संचालक वित्त जेपी तिवारी, लोक शिक्षण संचालनालय के संयुक्त संचालक केसी काबरा, पंचायत वइभाग के उप संचालक बीएन मिश्रा और लोक शिक्षण संचालनालय के उप संचालक आशुतोष चावरे इस कमेटी में हैं।

आदेश में कहा गया है कि शिक्षक पंचायत की समस्याओं की समीक्षा कर प्रतिवेदन पंचायत विभाग को भेजा जाये, ताकि उसका निपटारा किया जा सके। शिक्षाकर्मियों के पुनरीक्षित वेतनमान निर्धारण के बाद एरियर्स भुगतन, अनुकंपा नियुक्ति, स्कूल शिक्षा में संविलियन, हाईकोर्ट में याचिका मामला और अंशदायी पेंशन जैसे मामलों की समीक्षा कर सुनवाई करेंगे।

आपको बता दें कि प्रदेश के लगभग सभी शिक्षकों का स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन हो गया है किंतु पंचायत विभाग से जुड़ी ऐसी कई समस्याएं हैं जिनका निराकरण अभी तक नहीं हुआ है साथ ही स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन में भी इन समस्याओं को लेकर परेशानी आ रही थी जिसे लेकर शिक्षक लगातार अपनी समस्याएं पंचायत विभाग प्रमुख और लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक के समक्ष रख रहे थे जिसे देखते हुए अब लोक शिक्षण संचालनालय के संचालक जितेंद्र शुक्ला सहमति से पंचायत विभाग के संचालक मोहम्मद कैसर अब्दुल हक ने एक समिति का गठन किया है ।

स्वागत योग्य कदम, शिक्षकों की समस्या को एकजाई करके रखेंगे कमेटी के सामने – विवेक दुबे

शिक्षकों की समस्या को लगातार अधिकारियों के सामने रखने वाले सर्व शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विवेक दुबे ने इस कदम का स्वागत करते हुए कहा है कि

यह स्वागत योग्य कदम है क्योंकि ऐसे कई प्रकरण हैं जो पंचायत विभाग से संबंधित है और अभी तक लंबित है , इन समस्याओं को अभी तक हम अलग-अलग रख रहे थे अब एकजाई करके विभाग द्वारा गठित इस समिति के सामने रखेंगे ताकि समस्याओं का हल हो सके । हमने अपने सभी साथियों को कहा है कि जितने भी प्रकरण हैं उनकी हमें जानकारी एक साथ दें और हम सारी समस्याओं को एक साथ सूचीबद्ध करके विभाग के समक्ष लिखित रूप में रखेंगे ।

Spread the love