खनन माफिया में खूनी गैंगवार :रेत घाट मेें कब्जे को लेकर खूनी संघर्ष, युवक को मारकर नहर में फेंका…..कोरबा में पुलिस की कार्य प्रणाली पर फिर उठा सवाल… SP अभिषेक मीणा बोले….

कोरबा 26 सितंबर 2020। लगता है कि कोरबा को माफियाओं की बुरी नजर लग गयी है। कोल माफियाओं की तो हुकूमत कोरबा में सालों से चलती रही है…लेकिन अब तो कोयला के साथ-साथ तेल और रेत माफिया की भी यहां गुंडई खुलेआम होने लगी है।  इनकी हिमाकत तो देखिये !  वर्चस्व के लिए अब इनमें खूनी संघर्ष भी शुरू हो गया है। शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात रेत खदान में वर्चस्व को लेकर गैंगवार हो गया। आलम ये हुआ कि गैंगवार में कई लोग खून से लथपथ हो गये। ये आलम तब है जब एसपी अभिषेक मीणा कड़ी कार्रवाई की चेतावनी कई दफा दे चुके हैं।

इस बार मामला मामला कोतवाली थाना के राताखार रेत घाट में सामने आया है, यहां रेत घाट पर कब्जे को लेकर दो गुटो के बीच खूनी गैंगवार हो गया, और एक गुट के लोगों ने दूसरे गुट के एक शख्स को अधमरा होने तक पीटने के बाद नहर में फेंक दिया। रेत माफियाओं के दो गुटों में हुए इस गैंगवार में गनीमत की बात यह रही कि सही वक्त पर पुलिस मौके पर पहुंच गयी, वरना ये खूनी संघर्ष हत्या में तब्दील हो सकती थी।

गौरतलब है कि एनजीटी ने रेत खनन पर 15 जून से आगामी 15 अक्टूबर तक प्रतिबंध लगा रखा है। लेकिन छत्तीसगढ़ के दूसरे जिलों के साथ ही कोरबा जिले में भी रेत माफिया बेखौफ होकर रेत खनन कर रहे है। जिस खाकी के खौफ से माफियाओं के बीच दहशत होनी चाहिए…..उसी खाकी से सांठगांठ कर खनन माफिया शाम ढलते ही बेखौफ होकर रेत घाटो में बड़ी-बड़ी मशीने लगाकर अवैध खनन में लग जाते है। बताया जा रहा है कि शहर के राताखार रेत घाट से अवैध रेत खनन और परिवहन की सेटिंग हर्ष पालीवाल नामक शख्स ने कर रखी थी। शुक्रवार की रात तामेश अग्रवाल नामक रेत माफिया ने भी अपने स्तर पर सेटिंग कर राताखार रेत घाट से रेत लेने के लिए अपने वाहनो को भेजा गया था।

बस फिर क्या था रेत लोडिंग और घाट पर कब्जे को लेकर दोनो गुटो के बीच विवाद हो गया और देखते ही देखते हर्ष पालीवाल और उसके साथियों ने तामेश अग्रवाल और उसके 2 भाईयों की बेदम पिटाई करने के साथ ही उनके होंडा अमेज कार में तोड़फोड़ कर अपना दबदबा दिखाने की कोशिश की गयी। उधर रेत घाट में गैंगवार होने की जानकारी मिलने पर कोतवाली पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और दोनों गुटों को थाने में लाने के साथ ही मौके से अवैध रेत खनन में लगे एक पोकलेन मशीन सहित हाईवा और ट्रेक्टर को जब्त किया है।

कोतवाली पुलिस ने खनन माफियाओं के इस गैंगवार पर दोनों गुटो के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच करने की बात कह रही है। लेकिन हकीकत ये भी है कि जिले में खनन माफियाओं के बुलंद हौसले के पीछे खाकी के संरक्षण का अहम रोल है, अगर ऐसा नही होता तो जिले में कम्पलीट लाॅक डाउन और पुलिस का चप्पे चप्पे पर कड़ा पहरा होने के बाद भी आखिर खनन माफियाओं की गाड़िया सड़को पर धड़ल्ले से कैसे दौड़ रही है, ये कोरबा पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान लगा रही है।

माफियाराज नहीं चलने दिया जायेगा- अभिषेक मीणा

कोरबा में खनन माफियाओं के बीच हुए गैंगवार का मामला सामने आने के बाद एक बार फिर खाकी की कार्य प्रणाली सवालों के घेरे में है। ऐेसे में एक बार फिर कोरबा एस.पी अभिषेक मीणा ने जिले में गैंगवार और माफियाराज बर्दाश्त नही करने की बात कही है। उन्होने साफ कहा है कि पुलिस लगातार ऐसे अवैध कारोबार पर कार्रवाई कर रही है, और भविष्य में भी करती रहेगी। खनन माफियाओं को अगर कोई संरक्षण देते पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.