BJP कार्यकर्ता की चाकुओं से गोदकर हत्या: परिवार का आरोप- राम मंदिर के लिए चंदा जुटाने के लिए हुआ मर्डर… मृतक ने हत्यारे की पत्नी को दिया था अपना खून

नईदिल्ली 12 फरवरी 2021. राजधानी दिल्ली में हुए BJP कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की हत्या के मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है. रिंकू शर्मा को न्याय दिलाने के ट्वीटर पर #JusticeForRinkuSharma हैशटैग के साथ ट्रेंड हो रहा है. वहीं इस घटना पर सियासी घमासान भी जारी है. भाजपा नेताओं से लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने भी ट्वीट कर रिंकू शर्मा को न्याय दिलाने की मांग की है. वहीं खबरों की माने तो रिकूं शर्मा के परिवार वालों ने ये आरोप लगाया है कि उनकी हत्या राम मंदिर निर्माण में चंदा जुटाने के कारण हुई है.

रिंकू के भाई के मुताबिक, रिंकू बुधवार की शाम इलाके में ही एक जन्मदिन की पार्टी में गया था. जब वो पार्टी से लौट रहा था, उसी दौरान घर के पास के एक पार्क के पास उसके पड़ोस में रहने वाले एक युवक और उसके कुछ साथियों ने उसे पकड़ लिया था, वहीं पर उनके बीच में झगड़ा हुआ और झगड़ा बढ़ गया और रिंकू भाग के घर आया.
भाई के मुताबिक, आरोपी पीछा करते हुए घर तक आ गए, जमकर मारपीट की और रिंकू पर चाकू से हमला कर दिया. बाद में रिंकू की अस्तपताल मौत हो गई. चाकू रिंकू की पीठ में ही था. आरोप है कि हमले के दौरान हमलवारों ने रिंकू के घर का LPG सिलेंडर भी खोल दिया. 25 साल का रिंकू एक निजी अस्तपताल में लैब टेक्नीशियन का काम करता था. रिंकू के भाई का कहना है कि रिंकू इसलिए निशाने पर आ गया क्योंकि वो एक राम भक्त था, राम मंदिर निर्माण से जुड़ा था और बीजेपी, बजरंग दल के कार्यक्रमों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेता था. परिवार वाले की मानें तो हत्यारों ने घर पर धावा बोल दिया. रिंकू के साथ-साथ बुजुर्ग माता-पिता पर भी हमले किए. इस वारदात पर अब दिल्ली की राजनीति उबल रही है.

बीजेपी कार्यकर्ता की हत्या पर जबरदस्त सियासी घमासान है. बीजेपी और विश्व हिदू परिषद का आरोप है कि राम मंदिर निर्माण से जुड़े होने की वजह से हत्या हुई है. बीजेपी के साथ ही परिवार वाले भी यही आरोप लगा रहे हैं, हालांकि, दिल्ली पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करके मामले की जांच कर रही है.
वहीं दिल्ली पुलिस के इस घटना पर भाजपा नेताओं समेत परिवारवालों के आरोपों को सिरे से खारीज किया है. दिल्ली पुलिस के डीसीपी एस.धामा ने घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 25 वर्षीय रिंकू की 10 फरवरी को मंगोलपुरी में जन्मदिन की पार्टी में चाकू मार दिया गया था. बाद में अस्पताल में उसकी मौत हो गई. पुलिस ने आगे बताया कि रिंकू शर्मा का झगड़ा रेस्तरां को बंद करने पर शुरू हुआ था जिसके बाद उसकी हत्या कर दी गयी. इस घटना में 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस ने यह भी बताया कि रिंकू शर्मा और सभी आरोपी एक दूसरे को पहले से जानते थें.
अब रिंकू शर्मा की हत्या को लेकर सनसनीखेज खुलासा हुआ है. दिल्ली पुलिस की  जांच में सामने आया है कि रिंकू शर्मा जिनके दुखों में अपना खून देकर शामिल हुए उन्हीं लोगों ने उनकी पीठ में चाकू घोप मौत के घाट उतार दिया. इस घटना से आसपास के लोगों में भारी रोष है. हत्या में शामिल इस्लाम की पत्नी डेढ़ वर्ष पहले गर्भवती थी. उसकी हालत बहुत खराब थी. रोहिणी स्थित अस्पताल में उसके उपचार के लिए खून की आवश्यकता थी. ऐसे में रिंकू ने दो बार अपना खून आरोपित की पत्नी को दिया. यहीं नहीं रिंकू ने आरोपित इस्लाम के भाई शकुरू को कोरोना होने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराने में मदद की थी, लेकिन शायद रिंकू को यह नहीं पता था कि जिसको वह अपना खून दे रहा है, वही उसके खून के प्यासे हो जाएंगे. पड़ोसी रमेश ने बताया कि रिंकू का किसी के साथ दुश्मनी नहीं थी. वह एक नेक दिल इंसान थे.

Spread the love