भाजपा प्रवक्ता का कांग्रेस पर हमला..  धान बेचकर भुगतान प्राप्त कर लेने वाले भाजपा नेताओं की सूची जारी करना कांग्रेस की बचकानी व ओछी मानसिकता… 

रायपुर 20 जनवरी 2021। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने प्रदेश कांग्रेस द्वारा जारी की गई उस सूची को उसकी बचकानी राजनीतिक सोच और ओछी मानसिकता का प्रतीक बताया है जिसमें भाजपा नेताओं द्वारा दिसंबर माह में धान बेचकर भुगतान प्राप्त कर लेने की जानकारी दी गई है। श्रीवास्तव ने कहा कि इससे प्रदेश सरकार और कांग्रेस के नेताओं की बददिमाग़ी और बदनीयती साफ़ झलक रही है। अपनी शर्मनाक विफलताओं से जनता को मुँह दिखाने के लायक नहीं रह गए कांग्रेस नेताओं की अब यही नियति हो गई है कि वे इस प्रकार अपनी राजनीतिक दरिद्रता के साए में साँसें लेकर भाजपा के ख़िलाफ़ प्रलाप करते रहें।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता द्वारा भाजपा नेताओं की यह सूची सोशल मीडिया में सार्वजनिक करके भी कांग्रेस किसानों के साथ की गई और की जा रही लफ़्फ़ाजी, धोखाधड़ी और छल-कपट की राजनीति के पाप से मुक्त नहीं हो सकेगी। धान ख़रीदी के पूरे सिस्टम को चौपट करके कांग्रेस और प्रदेश सरकार अब ऐसे हथकंडों से अपनी ही भद पिटवा रही है। श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश में भाजपा के आंदोलन से घबराई-बौखलाई प्रदेश सरकार और कांग्रेस जिस तरह खंबा नोचती नज़र आ रही है, उससे साफ़ ज़ाहिर हो रहा है कि अब कांग्रेस और राज्य सरकार किसानों का भरोसा पूरी तरह खो चुकी है। अगले विधानसभा चुनाव में अपनी दुर्गति कांग्रेस के लोगों को आईने की तरह साफ़ नज़र आ रही है और इसलिए अब वह भाजपा के आंदोलन को लेकर किसानों में झूठ, भ्रम और नफ़रत फैलाने के घिनौने दांव-पेंच आजमा रही है, परंतु अब न तो प्रदेश के किसान कांग्रेस व उसकी सरकार के सियासी झाँसों में आएंगे और न ही किसानों को इंसाफ़ दिलाने की लड़ाई लड़ने का भाजपा का जज़्बा कमज़ोर पड़ेगा।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्रीवास्तव ने कांग्रेस के नेताओं से सवाल किया है कि क्या प्रदेश में सिर्फ़ भाजपा नेताओं ने ही धान बेचकर भुगतान लिया है? क्या कांग्रेस के नेताओं ने अपना धान बेचकर भुगतान नहीं लिया है? अब कांग्रेस अपने उन बड़े नेताओं के नाम की भी एक सूची जारी करने की हिम्मत दिखाए, जो धान बेचकर भुगतान ले चुके हैं। श्रीवास्तव ने कहा कि भाजपा नेताओं के धान बेचने और भुगतान लेने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व कांग्रेस नेताओं के पेट में अगर इतना ही मरोड़ उठ रहा है तो मुख्यमंत्री बघेल यह बता दें कि खेती-किसानी करने वाले भाजपा नेताओं को अपना धान बेचना और उसका भुगतान लेना है या नहीं? प्रदेश सरकार किसानों को उनकी उपज का भुगतान करके कोई अहसान नहीं कर रही है।

भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्रीवास्तव ने कहा कि खेती करके धान बेचने और उसका भुगतान प्राप्त करने को भी अगर कांग्रेस के लोग सियासी रंग देने की कोशिश कर रहे हैं तो फिर कांग्रेस के राजनीतिक नज़रिए और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल समेत तमाम कांग्रेस नेताओं की बुद्धि पर तरस ही खाया जा सकता है। श्रीवास्तव ने कहा कि खेती करने वाला किसान सिर्फ़ किसान होता है, और इस नाते भाजपा नेता के तौर पर नहीं, बल्कि एक किसान के तौर पर हमने धान का उत्पादन किया और प्रदेश सरकार की तमाम तुग़लक़ी प्रक्रिया का पालन करते हुए उसे बेचा और देर-सबेर उसका भुगतान लिया। भाजपा शासनकाल में क्या मुख्यमंत्री बघेल, रवींद्र चौबे, ताम्रध्वज साहू आदि ने अपना धान बेचकर उसकी कीमत और बोनस की राशि का भुगतान नहीं लिया था?

Spread the love