Begin typing your search above and press return to search.

डॉ. एस. जयशंकर की मोदी कैबिनेट में वापसी, पढ़िए डॉ. एस. जयशंकर का जीवन परिचय (जीवनी) : Jaishankar Biography in Hindi

Subrahmanyam Jaishankar Biography in Hindi, Age, Wiki, Wife, Family, Date of Birth, Wife, Family, Height, Career, Net Worth, Daughter, Children, Politics, Party, Quotes, in Hindi: डॉ. सुब्रह्मण्यम जयशंकर (जन्म: 9 जनवरी 1955) एक भारतीय राजनयिक और राजनेता हैं, जो 30 मई 2019 से भारत सरकार के विदेश मंत्री के रूप में कार्यरत हैं।

डॉ. एस. जयशंकर की मोदी मंत्रीमंडल वापसी, पढ़िए डॉ. एस. जयशंकर का जीवन परिचय (जीवनी) : Jaishankar Biography in Hindi
X
By Ragib Asim

Subrahmanyam Jaishankar Biography in Hindi, Age, Wiki, Wife, Family, Date of Birth, Wife, Family, Height, Career, Net Worth, Daughter, Children, Politics, Party, Quotes, in Hindi: डॉ. सुब्रह्मण्यम जयशंकर (जन्म: 9 जनवरी 1955) एक भारतीय राजनयिक और राजनेता हैं, जो 30 मई 2019 से भारत सरकार के विदेश मंत्री के रूप में कार्यरत हैं। वे भारतीय जनता पार्टी के सदस्य और 5 जुलाई 2019 से राज्यसभा के सदस्य हैं। जयशंकर ने जनवरी 2015 से जनवरी 2018 तक विदेश सचिव के रूप में भी सेवा दी है। वे नटवर सिंह के बाद दूसरे राजनयिक हैं जिन्हें भारत का विदेश मंत्री नियुक्त किया गया है।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा

डॉ. जयशंकर का जन्म दिल्ली में हुआ था। उनके पिता, कृष्णस्वामी सुब्रह्मण्यम, एक प्रमुख भारतीय सिविल सेवक थे और उनकी माता, सुलोचना सुब्रह्मण्यम, एक शिक्षिका थीं। उनका पालन-पोषण एक तमिल हिंदू परिवार में हुआ। जयशंकर के दो भाई हैं: इतिहासकार संजय सुब्रह्मण्यम और आईएएस अधिकारी एस. विजय कुमार, जो पूर्व ग्रामीण विकास सचिव रहे हैं।

डॉ. जयशंकर ने अपनी स्कूली शिक्षा दिल्ली के एयर फोर्स स्कूल और बंगलौर मिलिट्री स्कूल में की। उन्होंने सेंट स्टीफेंस कॉलेज, दिल्ली से रसायन विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) से राजनीतिक विज्ञान में एमए, अंतरराष्ट्रीय संबंधों में एम.फिल. और पीएचडी की डिग्री प्राप्त की, जहां उन्होंने परमाणु कूटनीति में विशेषज्ञता हासिल की।

राजनयिक करियर

डॉ. जयशंकर 1977 में भारतीय विदेश सेवा (IFS) में शामिल हुए। उनके राजनयिक करियर में 38 वर्षों से अधिक का समय शामिल है, जिसमें उन्होंने भारत और विदेश में विभिन्न क्षमताओं में सेवा दी। उन्होंने सिंगापुर में उच्चायुक्त (2007-2009) और चेक गणराज्य (2001-2004), चीन (2009-2013) और संयुक्त राज्य अमेरिका (2014-2015) में राजदूत के रूप में कार्य किया।

डॉ. जयशंकर ने भारत-अमेरिका नागरिक परमाणु समझौते को सफलतापूर्वक वार्ता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके सेवा निवृत्त होने के बाद, उन्होंने टाटा संस में ग्लोबल कॉर्पोरेट अफेयर्स के अध्यक्ष के रूप में शामिल हुए। 2019 में, उन्हें भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्म श्री से सम्मानित किया गया।

विदेश मंत्री के रूप में कार्यकाल

डॉ. जयशंकर 30 मई 2019 को दूसरी मोदी मंत्रिमंडल में केंद्रीय मंत्री के रूप में शपथ ली। 31 मई 2019 को उन्हें विदेश मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया। वे पहले पूर्व विदेश सचिव हैं जिन्होंने विदेश मंत्रालय का नेतृत्व किया है।

व्यक्तिगत जीवन

डॉ. जयशंकर की पहली पत्नी, शोभा, से उनकी मुलाकात जेएनयू में पढ़ाई के दौरान हुई थी। उनका निधन कैंसर से हुआ। इसके बाद, उन्होंने जापानी मूल की क्योकों से विवाह किया। उनके तीन बच्चे हैं: दो बेटे, ध्रुव और अर्जुन, और एक बेटी, मेधा।

डॉ. जयशंकर का करियर

सोवियत संघ में तैनाती

जयशंकर ने 1979 से 1981 तक सोवियत संघ में भारतीय मिशन में तीसरे सचिव और दूसरे सचिव के रूप में सेवा दी। उन्होंने वहां रूसी भाषा का अध्ययन किया और अमेरिका के साथ परमाणु ईंधन आपूर्ति विवाद को हल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

श्रीलंका और वाशिंगटन, डी.सी.

1985 से 1988 तक, जयशंकर वाशिंगटन, डी.सी. में भारतीय दूतावास में पहले सचिव के रूप में तैनात थे। 1988 से 1990 तक, उन्होंने श्रीलंका में भारतीय शांति सेना के राजनीतिक सलाहकार के रूप में सेवा की।

टोक्यो और चेक गणराज्य में तैनाती

जयशंकर 1996 से 2000 तक टोक्यो में भारतीय दूतावास में उप मिशन प्रमुख थे। इसके बाद, 2000 में, उन्हें चेक गणराज्य में भारत का राजदूत नियुक्त किया गया।

चीन में राजदूत

डॉ. जयशंकर चीन में सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले भारतीय राजदूत रहे। उन्होंने चीन और भारत के बीच आर्थिक, व्यापार और सांस्कृतिक संबंधों में सुधार किया और सीमा विवाद के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

संयुक्त राज्य अमेरिका में राजदूत

जयशंकर को सितंबर 2013 में संयुक्त राज्य अमेरिका में भारत का राजदूत नियुक्त किया गया। उन्होंने देवयानी खोबरागड़े मामले में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहली अमेरिका यात्रा की योजना बनाई।

विदेशी सचिव के रूप में कार्यकाल

डॉ. जयशंकर को 29 जनवरी 2015 को विदेश सचिव नियुक्त किया गया। उन्होंने नेपाल नाकाबंदी की योजना बनाने के लिए आलोचना का सामना किया।

राजनीति में योगदान

डॉ. जयशंकर 5 जुलाई 2019 को गुजरात राज्य से राज्यसभा सदस्य चुने गए। उन्होंने 2020 में अमेरिकी रक्षा और भू-स्थानिक सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए।

सम्मान और पुरस्कार

2019 में, डॉ. जयशंकर को भारत सरकार द्वारा पद्म श्री से सम्मानित किया गया।


Ragib Asim

Ragib Asim पिछले 8 वर्षों से अधिक समय से मीडिया इंडस्ट्री में एक्टिव हैं। मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं, पढ़ाई-लिखाई दिल्ली से हुई है। क्राइम, पॉलिटिक्स और मनोरंजन रिपोर्टिंग के साथ ही नेशनल डेस्क पर भी काम करने का अनुभव है।

Read MoreRead Less

Next Story