comscore

बिलासपुर ननि आयुक्त के तौर पर दो साल उपलब्धियों से भरा रहा… शहर का विस्तार,पुरानी समस्याओं का निराकरण,स्वच्छता में स्थान और स्मार्ट सिटी जैसी योजनाओं को धरातल में उतारने जैसी उपलब्धि लेकर जाएंगे पाण्डेय

बिलासपुर 24 फरवरी 2021. बिलासपुर-दो साल शहर में आयुक्त नगर पालिक निगम के तौर पर अपनी सेवा देकर ननि अंबिकापुर के नए आयुक्त बनाए गए प्रभाकर पाण्डेय के खातों में कई उपलब्धियाँ शामिल हो गई है,जो आने वाले समय में बिलासपुर के विकास में मील का पत्थर साबित होगी। बरसों से विस्तार का बांट जोह रहे निगम में 17 ग्राम पंचायतों को शामिल करना,स्वच्छ सर्वेक्षण में बिलासपुर का पूरे देश में 11 वां स्थान,स्मार्ट सिटी योजना को शुरू करना और अरपा रिवर फ्रंट जैसी योजनाओं को मूर्त रूप देने में कमिश्नर पाण्डेय ने प्रयास किए
आज राज्य शासन द्वारा प्रदेश के भर के कई नगर निगमों के आयुक्त के तबादला आदेश जारी किया गया। जिसमें बिलासपुर नगर निगम भी शामिल है. वर्तमान आयुक्त प्रभाकर पाण्डेय को अंबिकापुर नगर निगम का नया आयुक्त बनाया गया है। फरवरी 2019 में आयुक्त के तौर पर अपनी पारी की शुरूआत करने वाले कमिश्नर पाण्डेय ने दो चुनावी आचार संहिता और कोरोना के बावजूद स्मार्ट सिटी योजना को धरातल पर उतारने का प्रयास किया जिसमें सेंट्रल लाइब्रेरी परिसर और इंक्यूबेशन सेंटर को तैयार करना हो या व्यापार विहार स्मार्ट रोड निर्माण में आ रही बाधाओं को दूर करना हो चाहें मिट्टी तेल गली को अतिक्रमण मुक्त करते हुए उसे पूरा करना हो,प्लेनेटेरियम के निर्माण में गति लाना हों,दिन रात एक करके इन सभी योजनाओं को पूरा कराने में पाण्डेय ने ताकत झोंक दी थी, व्यापार विहार स्मार्ट रोड और प्लेनेटेरियम निर्माण के अपने अंतिम चरणों में है। इसके अलावा नेहरू चौक से मंगला चौक सड़क का विकास,आईजी मार्ग का सौंदर्यीकरण,कलेक्टोरेट मल्टीलेवल पार्किंग,आईटीएमएस,
वर्टिकल गार्डन,ज्वाली नाला विकास परियोजना,तालाबों का सौंदर्यीकरण जिसमें बंधवापारा तालाब को टूरिस्ट स्पाॅट के रूप में विकसित करना ,ट्रैफिक में बाधा बन रहें आईलैंड को हटाना,अवैध प्लाटिंग के खिलाफ़ कार्रवाई ये सब ऐसे काम है जिन्हें कमिश्नर पाण्डेय के कार्यकाल में प्रारंभ किया गया। इसके अलावा ईमलीपारा रोड और बस स्टैंड चौक के विकास के लिए जो प्रयास किए हैं उसके सकारात्मक परिणाम मिलने की उम्मीद है।

नए क्षेत्रों को शामिल करना और अरपा रिवर फ्रंट

बिलासपुर के विकास में मील का पत्थर साबित होने वाली दो महत्वपूर्ण योजनाएं जिसमें सबसे पहले निगम में नए क्षेत्रों को शामिल करना था, लंबे समय से शहर का विस्तार रुका हुआ था,जिसकी सख्त आवश्यकता थी,योजना बनाकर 17 ग्राम पंचायतों को निगम में शामिल किया गया और दूसरी अरपा रिवर फ्रंट योजना। जिसे पूरी योजना बनाकर नदी किनारें अतिक्रमण को हटाते हुए ज़ल्द से ज़ल्द धरातल उतारा गया हाँलाकि कुछ कानूनी अड़चनें आई अब उसे भी साल्व कर लिया गया है।

स्वच्छता में बिलासपुर को दिलायां 11 वां स्थान

कमिश्नर पाण्डेय द्वारा सुबह-सुबह साइकिल से शहर भ्रमण स्वच्छता का जायजा लेने और पूरी टीम को योजना बनाकर काम पर लगाने का परिणाम ही था जिसकी बदौलत स्वच्छ सर्वेक्षण में गत वर्ष बिलासपुर ने दस लाख आबादी वाले सबसे स्वच्छ शहरों में पूरे देश में 11वाँ स्थान हासिल किया था इसके अलावा 3 स्टार रैंकिंग भी मिला था।

अवैध प्लाटिंग के खिलाफ़ छेड़ा अभियान

शहर की खूबसूरती में दाग बनते जा रहें अवैध प्लाटिंग के खिलाफ़ कमिश्नर प्रभाकर पाण्डेय ने अभियान छेड़ रखा है। निगम द्वारा आज तक अवैध प्लाटिंग करने वालों के खिलाफ़ इतने बड़े स्तर पर कार्रवाई नहीं की गई थी।

कोरोना सबसे बड़ी चुनौती थी

लाॅकडाउन के दौरान सबसे बड़ी चुनौती थी शहरवासियों की मूलभूत सुविधाओं में कमी ना हों इसका विशेष ध्यान रखा गया इसके अलावा लाॅकडाउन के दौरान ज़रूरतमंद लोगों तक मदद पहुंचाना हों या मज़दूरों की समुचित व्यवस्था जैसी चुनौतियां का भी कमिश्नर प्रभाकर पाण्डेय ने सामना किया।

Spread the love