15 लाख के ड्रग्स के साथ राजधानी में ड्रग्स के बड़े रैकेट का खुलासा….नशे के कारोबार में जवान से लेकर हाईप्रोफाइल लोग थे शामिल …..कोड वर्ड में चलता था कारोबार, फ्लाइट से करते थे सफर….”उड़ता रायपुर” बनाने वाले नशे के सौदागरों की पूरी कहानी….पढ़िये कैसे हुआ खुलासा

रायपुर 9 अक्टूबर 2020। राजधानी में ड्रग्स के एक बड़े रैकेट का खुलासा हुआ है। 15 लाख के ड्रग्स के साथ रायपुर पुलिस ने 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। ये सभी ड्रग्स पैडलर हैं, जो ना सिर्फ नशे के समान की सप्लाई किया करते थे, बल्कि नये ग्राहक की तलाश भी किया करते थे। आज एसएसपी अजय यादव ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस कर नशे के सौदागरों के रैकेट का खुलासा किया। कमाल की बात ये है कि इस ड्रग के केस का पहला मामला 30 सितंबर को रजिस्टर्ड किया गया और 9 दिन के भीतर 15 लाख के ड्र्ग्स के साथ 7 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया।

ड्रग्स केस में इस तरह से हुई थी जांच की शुरूआत 

30 सितंबर को बैरनबाजार पॉलिटेक्निक के सामने दो लोगों को MDMA के साथ गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने जब इन दोनों को पकड़कर मामले की जांच आगे बढ़ायी तो एक के बाद एक तार इस केस से जुड़ते चले गये। इस गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही रायपुर के ही दो आरोपी पंचशील नगर के श्रेयांश झाबक और कोटा के विकास बंछोर को गिरफ्तार किया गया। इनके पास से भी कोकीन बरामद किया गया था। दोनों के पास से मिली 17 ग्राम कोकीन की कीमत 1 लाख 70 हजार रुपये की थी।  इन चारों ने खुलासे में कई ऐसे चौकाने वाले नामों को बताया, जिसने पुलिस को भी चौका दिया।  जिसके बाद एसएसपी के निर्देश पर सायबर सेल और कोतवाली थाना की एक विशेष टीम गठित की गयी।

कोड वर्ड से होता था नशे का कारोबार 

ड्रग्स के कारोबार में सेटिंग और सस्पेंस दोनों का खेल चल रहा था। खास कोड वर्ड का इस्तेमाल ये लोग करते थे। ड्रग को चाकलेट, केक जैसे नामों से संबोधित किया जाता था। साथ ही ड्रग्स पैडलर का भी नाम कोड वर्ड के तौर पर ही लिया जाता था, ताकि मामला खुलने पर ये पुलिस की पकड़ से दूर रहे।

मिन्हाज-अभिषेक के विवाद बनी थी ड्रग्स कंपनी की दो टीम 

अब तक की तफ्तीश में मिन्हाज का नाम सामने आया है, जो छत्तीसगढ़ में ड्रग्स का पहला कारोबारी था। बिलासपुर के मिन्हाज ने अभिषेक उर्फ डेविड को अपनी टीम शामिल किया, लेकिन नशा कंपनी की ये दोस्ती ज्यादा नहीं चली, पैसे को लेकर दोनों में विवाद हो गया, जिसके बाद दोनों ने अपना अलग-अलग कारोबार शुरू किया। अभिषेक ने इस दौरान अपनी टीम को बड़ा करना शुरू किया और इसमें एलिन सोरेन को शामिल कर लिया। ऐलिन स्टूडेंट है और गोवा में होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई कर रहा था। ऐलिन गोवा में गोवा में ड्रग्स का कारोबार करने वाले नाइजीरियन के संपर्क में आया और उसी कारोबार में शामिल हो गया। एलिन सोरेन ने गोवा में अभिषेक शुक्ला उर्फ डेविड़ का संपर्क नाइजीरियन (नीग्रो) से कराया तब से अभिषेक अपने पेडलर रोहित आहूजा और राकेश अरोरा के साथ कई बार जाकर ड्रग्स गोवा से लेकर आये और बिक्री करने लगे। लक्ष्मण गाईन जो जी.आर.पी. में आरक्षक के पद पर बिलासपुर में कार्यरत है ने अभिषेक को ड्रग्स के लिये पैसा फायनेंस प्रारंभ कर दिया।

अभिषेक और लक्ष्मण बिलासपुर में क्रिकेट खेलने के दौरान संपर्क में आये थे तब से कई बार लक्ष्मण की वर्ना कार से भी ड्रग्स लेने गोवा गये है। 27 सितंबर को भी लक्ष्मण और अभिषेक रायपुर में ड्रग्स की डिलीवरी करने आये थे जो पुलिस को भनक लगने पर भाग गये। रोहित और राकेश अरोरा को रायपुर व बिलासपुर में एक बार का ड्रग्स सप्लाई करने पर 1,000/- रूपये अभिषेक द्वारा दिया जाता था। चूंकि राकेश और रोहित गरीब तबके से है इसलिये अभिषेक ने उनको पैसा उधार लेने पर 8 प्रतिशत ब्याज लेकर दबा रखा था और राकेश की एक्टिवा वाहन को भी रख लिया था।

15 लाख का ड्रग्स किया गया जब्त 

27 सितंबर को अभिषेक और लक्ष्मण गाईन के रायपुर आने की भनक सायबर सेल को लग जाने के पश्चात् और विकास बंछोर और श्रेयांस झाबक की गिरफ्तारी पश्चात् पकड़े जाने के डर से अपना मोबाईल फोन रास्ते में फेंक दिये और नया मोबाईल नंबर लेकर अपने रिश्तेदारी में इलाहाबाद जाकर छिप गया था, जिसे तत्परता पूर्वक सायबर सेल की टीम द्वारा इलाहाबाद से हिरासत में लेकर रायपुर लाकर पूछताछ किया गया तो उसने संपूर्ण ड्रग्स रैकेट का खुलासा किया और उसके निशानदेही पर आरोपी अभिषेक उर्फ डेविड द्वारा तिफरा बिलासपुर स्थित घर से 93 ग्राम एम.डी.एम.ए. कीमती लगभग 15,00,000/-रूपये जप्त किया गया। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि उसके साथ इस काले कारोबार में मिन्हाज मेमन उर्फ हनी एलिन सोरेन, रोहित आहूजा, राकेश अरोरा उर्फ सोनू, लक्ष्मण गाईन एवं अब्दुल अजीज उर्फ सद्दाम जुड़े है। जिसके आधार पर आरोपी मोह मिन्हाज उर्फ हनी, एलेन सोरेन, रोहित आहूजा, राकेश अरोरा, अब्दुल अजीम उर्फ सद्दाम एवं लक्ष्मण गाईन को बिलासपुर के अलग – अलग स्थानों से पकड़कर गिरफ्तार किया गया। अभिषेक शुक्ला उर्फ डेविड़ आरोपी रोहित आहूजा और राकेश उर्फ सोनू अरोरा के माध्यम से राज्य के बिलासपुर एवं रायपुर जिलों में सप्लाई करते थे।

फ्लाइट से लाने जाते थे ड्रग्स, कार से लौटते थे वापस

नशे के सौदागर फ्लाइट से नशेे की खेप लाने जाते थे, और नशे का सामान लेकर प्राइवेट गाड़ी से लौटते थे। आरोपी लक्ष्मण गाईन के कब्जे से घटना में प्रयुक्त हुण्डई वर्ना कार क्रमांक सी जी/04/एच क्यू/1011 को भी जप्त किया गया है। इस तरह से रायपुर पुलिस द्वारा इस ड्रग्स के काले कारोबार से जुड़े पूरे नेटवर्क को तोड़ते हुये सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। रायपुर के 05 अन्य ड्रग्स कारोबारी का नाम सामने आया है जो आरोपी श्रेयांस झाबक एवं विकास बंछोर की गिरफ्तारी के बाद से फरार हो गये है, जिनकी पतासाजी की जा रही है। इसके अलावा कई अन्य ग्राहक जो ड्रग्स क्रय करते थे सभी फरार हो गये है, जिनकी पतासाजी की जा रही है। ऐसी जानकारी प्राप्त हुई कि आरोपी मिन्हाज मेमन अपने साथी सद्दाम के साथ रायपुर के कई क्लबों में भी ड्रग्स की सप्लाई करता था, जिसके संबंध में विस्तृत पूछताछ करते हुये जानकारी एकत्रित की जा रही है। आरोपियों द्वारा ड्रग्स की लत लगाने के लिये ग्राहकों को पहले सस्ते दाम में ड्रग्स दिया जाता है और लत लगने के बाद अधिक दामों में बिक्री किया जाता था। रायपुर पुलिस द्वारा ड्रग्स कारोबारियों के विरूद्ध अब तक की पहली व सबसे बड़ी कार्यवाही की गई। नशा का कारोबार करने वाले कारोबारियों के विरूद्ध रायपुर पुलिस का अभियान लगातार जारी रहेगा।

इन पुलिस अफसरों की बनी थी टीम

बैरन बाजार स्थित शासकीय पाॅलीटेक्निक के सामने रोड पर 2 व्यक्ति एम.डी.एम.ए.के साथ पकड़ा गया था। जिस पर रायपुर के आईजी एवं एसएसपी अजय यादव ने गंभीरता से लेते हुये अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर लखन पटले, ASP क्राइम अभिषेक माहेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली डीसी पटेल, प्रभारी सायबर सेल रमाकांत साहू एवं थाना प्रभारी कोतवाली आर.के.पात्रे को आरोपियों को रंगे हाथ पकड़ने के निर्देश दिये गये थे। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में एक विशेष टीम का गठन किया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.